Advertisements
ritu ray
    सदा सत्य पथ पर चले जाना है
हवा के है झोंके बहे जाना है।
कभी सोचते है,ठहरे इसी पथ
बस नीर है हम, बहे जाना है ।
ठहरी नही जिंदगी भी किसी पथ
किसी के लिए ना रुके हम किसी पथ
कभी लड़खड़ाये ,तो सोच ले हम
यही जिन्दगी है बस चले जाना है।
किसको सुनाये , हम अपनी कहानी
कैसे बताये क्या है , जिन्दगानी
समेट न पाये रिस्तो को अपने
हम वारि है, हमे बहे जाना है ।
तेरा काम है नीर बहना ही बहना
न है कोई मंजिल, तो फिर क्यों ठहरना।
काश तेरा कोई किनारा भी होता
जहा तू ठहरता, विश्राम करता।
तू जल है, तुझे जीवन कहते सभी है।
सदा तुझ पर निर्भर , जीव जन्तु सभी है।
तेरी भी अपनी है क्या जिन्दगानी
बता न कभी, मुझको अपनी कहानी ।
तुझ विन धरा पर जीवन नही है।
सब है पता, तेरी कदर क्यों नही है
नही तुझे गिला, न है शिकवा किसी से
बता न, हम इंसान क्यों तेरे जैसे नही है।
तू नीर है , पय, वारि, उदक है
स्वभाव ही शीतल बहे जाना है ।
कही न है ठहरा, न ठहरेगा कही भी
सदा सत्य पथ पर चले  जाना है ।
 #ऋतू राय ऊषा
(Visited 23 times, 1 visits today)
Please follow and like us:
0
http://matrubhashaa.com/wp-content/uploads/2019/05/ritu-ray.pnghttp://matrubhashaa.com/wp-content/uploads/2019/05/ritu-ray-150x150.pngmatruadminUncategorizedकाव्यभाषा#dr ved pratap vaidik column,ritu    सदा सत्य पथ पर चले जाना है हवा के है झोंके बहे जाना है। कभी सोचते है,ठहरे इसी पथ बस नीर है हम, बहे जाना है । ठहरी नही जिंदगी भी किसी पथ किसी के लिए ना रुके हम किसी पथ कभी लड़खड़ाये ,तो सोच ले हम यही जिन्दगी है बस चले जाना है। किसको...Vaicharik mahakumbh
Custom Text