कोहरे में कैद ज़िन्दगी

Read Time3Seconds

अभी- अभी ही संदेश आया-
‘ गुंजन विधवा हो गई’
इस खबर ने सुनहरे ख़्वाबों को
कोहरे- सा ढक लिया।
अभी – अभी मेरे सामने ही तो
उसका किसलय फूटा था
उसने गुलाबी लालिमा के साथ
इस दुनियावी आब को स्पर्श किया था
और अभी शंखध्वनि गूंजी
कि उसे सौंपा जा चुका
एक अनजान पुरुष को ताउम्र के लिए।
अभी तो उसकी अरुणाई निखरी भी नहीं थी
अभी तो दुधिया दाने सुगंध बिखेर ही रहे थे
अभी तो उसने जीवन महसूस भी नहीं किया
और अभी ही उसके प्रासाद में
दीमक का प्रवेश।
अपने सपनों को आंचल की कोर में बांधे
वह भले ही मां की देहली पार की
ससुराल की चौखट ने
उसे खुलने से पहले ही बिखेर दिया।
दारू का नशा व कुत्सित- वृत्ति का उबाल
उसका हर लम्हा नारकीय कर गया
अभी तो वह आयी थी यहां
अपनी देह पर उस हैवान की क्रूर- छाप लेकर
मां का विदा- उपदेश
वह अपनी आत्मा के मृत्योपरान्त भी निभा रही थी
परंतु अमानुषी जीवन- जंग में
वह ख़ुद ही हार गया।
अभी पता चला
उसकी कराह का हक भी छीन
कुछ आनुवंशिक क्रूर
उसकी सांसें भी खींच लिए।
अभी तो उसके बचपन का प्रभात
यौवन की चढ़ाई भी नहीं चढ़ा
कि उसका जीवन, बिन संध्या ही
तमिस्राधीन हो गया।
मेरी आंखों में वह पल
अब भी जिंदा है
जब पूरे स्कूल में उसकी दौड़ का
कोई सानी नहीं था
वह समय, जब पूरा गांव
उसकी प्रतिभा पर मुस्कुरा उठा था
विधायक ने ख़ुद पुरस्कार सौंप
यशस्वी होने का आशीर्वाद दिया था
कितना सुखद था वह क्षण
जब उसके गले की मिठास
और पांवों की थिरकन ने
सभी को मोह लिया था।
अभी – अभी खंडित संसार व सूनी मांग
देखकर पूरा गांव
कातर हो उठा।
अब बाईस साल की गुंजन
दो बच्चों का भविष्य- भार थामे
दो साल से विधवा- जीवन ढोने को अभिशप्त है।

किसमत्ती चौरसिया
इलाहाबाद(उत्तरप्रदेश)

      
1 0

matruadmin

Next Post

जीवन में रस घोले हिन्दी

Wed Jun 24 , 2020
मन की गाँठें खोले हिन्दी। जीवन में रस घोले हिन्दी।। मैं भी बोलूँ, तुम भी बोलो। मन से जन-जन बोलें हिन्दी ।। जीवन में रस घोले हिन्दी। धरती बोले, अम्बर बोले। सरिता बोले, सागर बोले।। बूँद बोले, महासागर बोले। पवन बोले, सुमन बोले। झूम-झूम के ‘सावन’ बोले। मन का ताला […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।