शिक्षा का माध्यम मातृभाषाएँ

Read Time2Seconds

gulab

मातृभाषा का मतलब है कि, माँ से सीखी और बोली जाती भाषा का नाम मातृभाषा है |
बालक जन्म के बाद पहली बार जो भाषा बोलता है, वो भाषा अपनी माँ की और उसकी मातृभाषा
है | माँ से ही वो मातृभाषा सीखता है | विश्व में ६००० से अधिक भाषाएँ है | भारत में करीब
६०० अधिक बोलियाँ है | भारत में हरेक प्रान्त की भाषा अलग अलग है, लेकिन, हिन्दी भाषी
प्रान्तों की संख्या ज्यादा है |
हमारे गुजरात में गुजराती भाषा के रूप में मातृभाषा गुजराती बोली जाती है | हमारे यहाँ
भाग्येश झा जो पहेले कलेक्टर भी थे, वो बताते है कि, मगन माध्यम यानि कि, मातृभाषा गुजराती
में शिक्षा ले कर मैं कलेक्टर बन सका था | मातृभाषा में शिक्षा लेने वाले बहुत सारे युवा अच्छे पद
पर काम कर रहे है | मातृभाषा में शिक्षा प्राप्त करने से संस्कृति का जतन होता है, बच्चों को हर चीज
का नाम आसानी से पता चल जाता है | केवल अंग्रेजी में पढाई करने से बच्चों में संस्कृति का अभाव
रहने की संभावना ज्यादा रहती है | उसे अपनी संस्कृति की पहचान नहीं होती | में एक बार ट्रेन में
सफर कर रहा था तब एक युवा से बातचीत करने का मौका मिला | उस ने बताया कि में अंग्रेजी
माध्यम की मिलिट्री स्कूल में पढ़ रहा हूँ | मैंने उसे पूछा कि आप कहाँ से हो तो बताया कि, में केरल
से हूँ | मैंने पूछा की, “who is god Ayappa” ? उसने जवाब दिया कि, I don’t know | ये एक
उदाहरण है कि, अंग्रेजी माध्यम की स्कूल में पढने वाले बच्चों को अपने प्रदेश की संस्कृति की
पहचान नहीं होती |
मातृभाषा में पढाई करने वाले बच्चे जयादातर बुद्धिमान होते है | हमारे देश की भाषा यानि
कि, हिन्दी है | भारत में हिन्दी भाषी राज्यों की संख्या ज्यादा है | भारतीय संस्कृति का जतन करने
में और देश के विकास के लिए कवि लोग, तुलसीदास, मैथिलि शरण गुप्त, रामधारी सिंह दिनकर,
सुमित्रानन्दन पंत, प्रेमचंद, जगदीश गुप्त, हरिवंशराय बच्चन और अज्ञेय ने बहुत महत्वपूर्ण
योगदान दिया है | उन सभी ने राष्ट्रभाषा हिन्दी में देश की संस्कृति का जतन किया है | हमारा
धार्मिक साहित्य, गीता, भगवत आदि ग्रंथों ने भारतीय संस्कृति को उजागर कर के मानवीय
संस्कृति को निभाया है | देश के प्रति प्रेमभाव और विकास की दिशा दिखाई है | कुरान और बाइबल

जैसे धार्मिक ग्रंथों ने देश के लोगों को महानता प्रदान करने में और देश के विकास मैं अपना
महत्वपूर्ण योगदान दिया है | गुरुग्रंथ ने मजबूत मानव संस्कृति और देश भक्ति को बढ़ावा दिया है |
हमारे देश के प्रधानमंत्री, माननीय श्री नरेन्द्रभाई मोदीजी, जिन्हों ने मातृभाषा गुजराती में
ही शिक्षा प्राप्त की है, तब भी वो आज हमारे भारत देश के प्रधानमंत्री है | उन्हों ने विश्व में अपने
राज्य गुजरात और भारत देश का नाम उजागर किया है, देश के विकास में अच्छा योगदान दिया है,
इस लिए भारत में वो सब से अधिक लोकप्रिय नेता है |
मातृभाषा में शिक्षा पाने से युवा नई दिशा प्राप्त करते है लेकिन, आज क्रेज हो गया है कि,
ज्यादातर लोग अपने बच्चों को अंग्रेजी माध्यम में शिक्षा दिलाते है | मेरे एक मित्र डोक्टर है, उसने
बताया कि, मैंने मेरे बच्चों को गुजराती माध्यम में पढाई के लिए दाखिला दिलवाया है | उसने
बताया कि, अगर मेरिट लाना है और मेडिकल में जाना है तो, मातृभाषा से ही अच्छा मेरिट आ
सकता है |
हिन्दी सम्मलेन, प्रयाग की ओर से ६९ वा हिन्दी साहित्य सम्मेलन नागपुर में २०१६ में
हुआ था | इस सम्मलेन में मेरा ये आलेख प्रस्तुत किया था, जो आयोजको और हिन्दी साहित्य
प्रेमियों को बहुत ही पसंद आया था | उसे “राष्ट्रभाषा संदेश” हिन्दी पत्रिका में प्रकाशित भी किया
गया था |
धन्यवाद,

गुलाबचंद एन. पटेल
कवि, लेखक, अनुवादक और
नशा मुक्ति अभियान प्रणेता,

#गुलाबचन्द पटेल

परिचय : गांधी नगर निवासी गुलाबचन्द पटेल की पहचान कवि,लेखक और अनुवादक के साथ ही गुजरात में नशा मुक्ति अभियान के प्रणेता की भी है। हरि कृपा काव्य संग्रह हिन्दी और गुजराती भाषा में प्रकाशित हुआ है तो,’मौत का मुकाबला’ अनुवादित किया है। आपकी कहानियाँ अनुवादित होने के साथ ही प्रकाशन की प्रक्रिया में है। हिन्दी साहित्य सम्मेलन(प्रयाग)की ओर से हिन्दी साहित्य सम्मेलन में मुंबई,नागपुर और शिलांग में आलेख प्रस्तुत किया है। आपने शिक्षा का माध्यम मातृभाषा एवं राष्ट्रीय विकास में हिन्दी साहित्य की भूमिका विषय पर आलेख भी प्रस्तुत किया है। केन्द्रीय मानव संसाधन विकास मंत्रालय और केन्द्रीय हिन्दी निदेशालय(दिल्ली)द्वारा आयोजित हिन्दी नव लेखक शिविरों में दार्जिलिंग,पुणे,केरल,हरिद्वार और हैदराबाद में हिस्सा लिया है। हिन्दी के साथ ही आपका गुजराती लेखन भी जारी है। नशा मुक्ति अभियान के लिए गुजरात के मुख्यमंत्री नरेन्द्र मोदी दवारा भी आपको सम्मानित किया जा चुका है तो,गुजरात की राज्यपाल डॉ. कमला बेनीवाल ने ‘धरती रत्न’ सम्मान दिया है। गुजराती में‘चलो व्‍यसन मुक्‍त स्कूल एवं कॉलेज का निर्माण करें’ सहित व्‍यसन मुक्ति के लिए काफी लिखा है।

0 0

matruadmin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

शिक्षक गोपाल कौशल राष्ट्रीय नवोदय क्रांति अवार्ड से कुरुक्षेत्र में सम्मानित

Tue Feb 5 , 2019
नयापुरा माकनी स्कूल को भी मिला स्मार्ट स्कूल अवार्ड श्री कौशल के नवाचार देश के 15 राज्यों सहित पहुंचे सात समंदर पार  नागदा (धार)  | शासकीय नवीन प्रावि नयापुरा माकनी नागदा के शिक्षक गोपाल कौशल को शिक्षा में उत्कृष्ट कार्यों एवं नवाचारों के लिए नेशनल नवोदय क्रांति अवार्ड एवं शा.न.प्रावि […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।