*हमने भी खोया था हिन्दी का एक ‘गाँव’*

Read Time6Seconds
PicsArt_11-22-11.23.32
—डॉ विवेकी रॉय जी आप आज भी याद आते हो…
साल 2016, नवंबर की 22 तारीख और उत्तरप्रदेश की पुण्यभूमि वाराणसी की गोद में 93 वर्षीय ललित निबंध की आत्मा ने चिर विदाई ले ली थी।
हाँ नवंबर की ही 19 तारीख पर साल 1924 को उत्तर प्रदेश के बलिया जिले के भरौली ग्राम में साहित्य की विधा ‘ललित निबंध’ के सूर्य ने जन्म लिया था। प्रारम्भिक शिक्षा पैतृक गाँव सोनयानी (गाजीपुर जिला) में हुई। महात्मा गाँधी काशी विद्यापीठ से पी-एच.डी. की। शुरू में कुछ समय खेती-बाड़ी में जुटने के बाद अध्यापन कार्य में संलग्न हुए।
‘मनबोध मास्टर की डायरी’ और ‘फिर बैतलवा डाल पर’ इनके सबसे चर्चित निबंध संकलन हैं और सोनामाटी उपन्यास राय जी का सबसे लोकप्रिय उपन्यास है।
हिन्दी साहित्य के प्रमुख ललित निबंधकारों में से एक डॉ. विवेकी राय का महाप्रयाण एक खालीपन तो छोड़ ही गया साथ ही साथ ललित निबंध भी उसके बाद मैं पढ़ नहीं पाया।
हज़ारी प्रसाद द्विवेदी, विद्या निवास मिश्र और कुबेरनाथ राय के साथ वो ललित निबंधकारों के चार स्तंभों में से एक थे।
वे शहरी चमक-दमक से दूर पूर्वांचल के सहज गवईं व्यक्तित्व को अपनी रचनाओं में ढालते हुए चुपचाप आजीवन साहित्य सर्जना करते रहे। उनके निबंध, उपन्यास, कहानी सभी में एक सहज गवईं गंध निसृत होता रहता है।
विवेकी राय जी का जिक्र हो और ‘गाँव’ को याद न करें तो बेमानी होगा ।
गाँव के अतिरिक्त आपने 50 से अधिक किताबें लिखी थी, जो भविष्य के गर्भ में पल रहे *खोजकर्ताओं* और वर्तमान के *सपनों* को निश्चित तौर पर रंग देने वाले साबित होंगे ।
किताबों से पन्ने पलटता हूँ तो खोजता हूँ मेरे प्रेरणा के पुंज को जो यह भी कहते थे कि *’हिन्दी तो गाँव का आँचल है और भोजपूरी हमारे अंचल की अस्मिता’*
वे ललित निबंध, कथा साहित्य और कविता कर्म के भी महाप्राण हैं। विवेकी राय जी का रचना कर्म नगरीय जीवन के ताप से तपाई हुई मनोभूमि पर ग्रामीण जीवन के प्रति सहज राग की रस वर्षा के समान है जिसमें भीग कर उनके द्वारा रचा गया परिवेश गवईं गंध की सोन्हाई में डूब जाता है। गाँव की माटी की सोंधी महक उनकी खास पहचान है।
सैकड़ो सम्मान, हजारों रचनाएं और लाखों पाठकों की आत्मा से गलबहिया लड़ाने वाले और हिन्दी की आत्मा यानि गाँवों का दर्शन देने वाले डॉ विवेकी रॉय जी आप आज भी याद आते हो… जिन्दा है आपकी यादें, आपका सृजन और आप….
ललित निबंध के असल महानायक डॉ. विवेकी रॉय जी को अश्रुपूरित श्रद्धांजलि ।
*डॉ.अर्पण जैन ‘अविचल’*
मातृभाषा उन्नयन संस्थान

परिचय : डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर  साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।

0 0

matruadmin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

ख्यात साहित्यकार हिमांशु जोशी जी ने ली दैहिक विदाई 

Fri Nov 23 , 2018
दिल्ली | मूर्धन्य कहानीकार और उपन्यासकार सहित हिन्दी साहित्य के नक्षत्र खेतीखान निवासी प्रख्यात साहित्यकार हिमांशु जोशी का निधन हो गया है। 83 वर्षीय हिमांशु जोशी लंबे समय से बीमार थे। गुरुवार रात दिल्ली में उन्होंने आखिरी सांस ली। उनके निधन से इलाके में शोक की लहर है। आदरणीय हिमांशु […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।