—डॉ विवेकी रॉय जी आप आज भी याद आते हो… साल 2016, नवंबर की 22 तारीख और उत्तरप्रदेश की पुण्यभूमि वाराणसी की गोद में 93 वर्षीय ललित निबंध की आत्मा ने चिर विदाई ले ली थी। हाँ नवंबर की ही 19 तारीख पर साल 1924 को उत्तर प्रदेश के बलिया […]

एक गीत लिखा है मैंने  जो कल हो जायेगा इतिहास, गाना है तो आज ही इसे  अपने स्वर में गा डालो।   धुन भी तुम्हे बनानी है  और वाद्य तुम्हे ही हैं चुनने, आरोह और अवरोह सभी  इसमें तुमको ही हैं बुनने।   मेरे शब्दों पर फिर चाहे तुम ज्वाल […]

संतो की वाणी में सत्य तो होता है . भगवान को भी  संतो की वाणी की रक्षा  करनी ही पड़ती है .संत मलूक दास जी के इस दोहे के संदर्भ में इन दिनो देश में तरह तरह की योजनायें चल रही हैं . अकर्मण्य और नकारा लोगों के हितार्थ सरकारें […]

 शब्द आतुर हैं ह्रदय में; अधर के तुम द्वार खोलो, नयन-सम्मोहन लुटाने रा त बाकी है अभी भी, क्यों तान रक्खी है कमानों के सरीखी वक्र भृकुटी, गालों पर खिले जो सुमन उनसे आंच को हर मंद कर दो। तुम न जाने किस गगन की अप्सरा हो; कुछ कहो तो, […]

  केसरिया आखर से मैंने लिक्खी अपनी प्रेम कहानी तुम अपने अधरों से उसको सिंदूरी कर दो तो जानूं। निर्जीव सभी अक्षर थे; प्राण-प्रतिष्ठा की भावों ने, इस अनुष्ठान के प्रसाद को स्वीकार करो तो मैं जानूं। सूर्योदय से गोधुली तक; कड़ी धूप में रोज़ सुलगता रात उतरती आँगन में; […]

वो सूखे पत्ते पलाश के । टूटे सितारे आकाश से । खोजते रहे जमीं अपनी , कल तक जो थे साथ से । क्यों तरसती रहीं निगाहें  , उजाले थे वो आभास के । क्यों टूटते रहे वो घरौंदे  , जो घरौंदे थे विस्वास के  । न रूठकर भी रूठे […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।