प्रेम एक आवेदन नहीं न ही कोई अनुरोध है वो मार्ग क्या जिसमें कठिनता न ही अवरोध है ईर्ष्या मिथ्या द्वेष जिसमें हो प्रेम नहीं  वो प्रतिशोध है प्रेम जीवन की सत्यता प्रदर्शित करता है प्रेम सैद्धांतिक है न कोई प्रयोग है पवित्रता निर्धारित करे जो भाग्य वो प्रेम है […]

मैं था कहाँ और कहाँ आ कर के बैठा हूँ अपना सबकुछ किसी गैर पर लुटाकर के बैठा हूँ उम्र सदियाँ दौर सब जिसमें मुझको नजर आया था रब उस अजनबी के  इंतजार में सबकुछ गवाकर के बैठा हूँ कुछ भी फसाना था जो कभी तेरे मेरे उस इश्क का […]

मैंने उनसे कहा कि “दद्दा जी,उधर बच्चे चमकी बुखार से मर रहे हैं,राष्ट्रीय शोक की घड़ी है और आपको क्रिकेट सूझ रहा है।” दद्दा जी ने भड़कते हुए कहा- “मैं अपनी मर्जी का मालिक हूँ,मैं चाहे ये करूं, मैं चाहे वो करूं या फिर मैं कुछ ना करूं,मेरी मर्जी !आप […]

मेरी मोहब्बत को मेरी चाहत को उसने ऐन वक्त पर नामंजूर कर दिया कभी अपना बनाने की कसमें खाई देखो आज उसी ने मुझे खुदसे दूर कर दिया दर्द आसूँ सितम खामोशी से हमने सहे इन सब जख्मों को देकर भी मुझे बेवफा से मशहूर कर दिया यूँ तू हसरत […]

यह तो सामान्य सी बात है और सभी को पता होना चाहिए लेकिन नहीं, शायद आम आदमी इन गहरी बातों को नहीं समझ सकता और नही मुझ जैसे मूढ़ मति के व्यक्ति को यह बात समझ में आ सकती है लेकिन जब एक इन्जीनियरिंग का छात्र रह चुका नेता किसी […]

आखिर कब तक किसान आत्महत्या करता रहेगा ! कहीं तो यह सिलसिला थमना चाहिए लेकिन नहीं!किसान आत्महत्या करना बन्द नहीं करेगा क्योंकि जबसे सरकारें चाहे वह किसी भी दल की रही हों,किसान हितैषी होती जा रही हैं, किसान आत्महत्या कर अपनी बात उन तक पहुँचा कर सरकारों को अपनी ओर […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।