हिन्दू धर्म की मान्यता के अनुसार कुल इक्यावन शक्तिपीठ हैं।जिनमें से माता सती की नाभि गिरने के कारण यह स्थान मां पूर्णागिरी के नाम से संसार में प्रसिद्ध हुआ। हिमालयी राज्य उत्तराखंड के चम्पावत जिले में स्थित यह अपार स्नेह का केन्द्र निकटवर्ती शहर टनकपुर से इक्कीस किलोमीटर की […]

वूमन आवाज’ का दूसरा अंक मेरे हाथों में है, और मैं सम्मोहित हो रही हूं उस के  आवरण पृष्ठ को देख कर।   इतना अर्थपूर्ण और -सुन्दर  है  आवरण पृष्ठ कि नज़र हटाने का मन ही नहीं करता।   मैं  शिखा जी से पूर्णत: सहमत हूं कि  ”  एक स्त्री […]

देश के अन्नदाता की आंखों को सुख देने वाली फसल और खेत में जब मुस्करायी सरसों इठलाने लगी अलसी आम बौराये गये कि – बैण्ड बाजे के साथ बादल आ गए बारात घरों सी रोशनी मंगाकर चमकी बिजली चलने लगीं जोर जोर की हवायें कहीं अंधड़ कहीं बरसात कहीं कहीं […]

इतिहास के दरख़्त के नीचे जब भी खड़े होते है तब इतिहास का इकबाल यही बोलता है कि यमुना की जमीन के अंदर जितनी चमक है उससे कहीं ज्यादा आगरा के ताजमहल की खूबसूरती का इकबाल आसमान में छिपा हुआ है । यह कैम्ब्रिज और ऑक्सफोर्ड का इतिहास बोलता है […]

पूरा देश एक बार फिर लोकसभा चुनाव के लिए तैयार हो रहा है। चुनाव आयोग हो या विविध राजनीतिक दल सबके सब सक्रिय हो गये हैं। पक्ष और विपा सज रहे हैं अपनी अपनी तैयारियां हैं और अपनी अपनी रणनीति भी।भारत में राजनीति ही ऐसा क्षेत्र है जहां कोई किसी […]

नमन उन वीर शहीदो को, अमर हुई निशानी है। देह देकर भारत माता को, अमर हो गयी कहानी है। धन्य हुई मां जनकर जिसको दूध जिसका बलिदानी है। देगे मुहतोड जबाब कसम ये हिन्दुस्तानी है। पत्नी , बेटी परिवारी जन दुखित है आंखो मे पानी है। कहते वीर न हो […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।