‘‘जवान तुम्हारी माताजी ……….का निधन हो गया है, तुम फील्ड से वापिस आ जाओ…………….’’ वायरलेस पर आयी इस सूचना ने सचिन को थोड़ी देर के लिए स्तब्ध कर दिया । तभी सामने से आई एक गोली उसके सामने रखी रेत कीे बोरी में घुस गई । सचिन चैक गया उसने […]

चर्र-चूं’’ की आवाज निकालता दरवाजा उसने खोला था । उसे उम्मीद थी कि ‘‘शेरू’’ दरवाजे पर ही मिल जाएगा । उसका अनुमान सही निकला । दरवाजे की आहट पाकर शेरू चैतन्य हो गया था । आज दो दिनों के बाद दरवाजा खुला था । वो दिनों से यूं ही भूखा-प्यास […]

नीलिमा को लौटने में बहुत देर हो गई थी । वैसे भी वह चार दिन बाद अपने घर लौटी थी । घर क्या किराये का एक कमरा जिसमें वह केवल रात को सोने ही आती थी दिन भर तो उसे अस्पताल में मरीजों के साथ रहना पड़ता था । उसे […]

कापी का कोरा पन्ना फाड़ा और उसे एक आकार दिया शायद वह कागज का ऐरोप्लेन बन गया था अपने नन्हे-नन्हे हाथों को अधिकतम उंचा उठाकर हवा में उछाल दिया, कुछ दूर तक हवा में तैरने के बाद वह कागज वापिस आकर नीचे गिर गया………फिर उसे उठाया और फिर उछाला……..अबकी बार […]

आंगन के बीचों बीच कौशल्या की मृत देह को रख दिया गया था । कर्नल रामसींग आंसू भरी आंखों से एकटक देख रहे थे । दूर महानगरों में रह रहे दोनों बच्चों को माॅ के निधन की सूचना दे दी गई थी । संभवतः वे कल तक ही यहां पहुंच […]

‘‘डाक्टर साब आपके घर से फोन आया है आपका बेटा बीमार है’’ । नर्स ने बहुत देर तक डाक्टर साहब के फरुसत हो जाने की राह देखी थी पर वे फुरसत हो ही नहीं पा रहे थे । एक मरीज जाता तो दूसरा आकर उनके सामने बैठ जाता । डाक्टर […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।