बहुत थका हूँ…

0 0
Read Time2 Minute, 40 Second
ram avatar
उनके कृपावन्त चरनों पर अपना सिर रखकर रोऊँगा।
बहुत थका हूँ अब सोऊंगा॥
चलता रहा शुरू से,अब तक तन मन चकनाचूर हो गया।
जाना था जिस प्रियतम के घर,वही दूर से दूर हो गया॥
अब तो नस-नस का वश टूटा,मरी आस विश्वास तज रही,
और हौंसला आगे बढ़ पाने का भी काफूर हो गया॥
तन पर दाग लगे कपड़े हैं,मल-मल कर इनको धोऊँगा।
बहुत थक गया अब सोऊंगा॥
जिसको ताक़त समझा था मैं,वह निकली मेरी कमजोरी।
सच कहना तो दूर,सिर्फ मैं बोला झूठ बात ही कोरी॥
इधर-उधर से कर जुगाड़ ही,खींचे रहा कुटुम्ब की गाड़ी।
नातों की पगही थामे,औरों की भरता रहा तिजोरी॥
मन का खेत जोतकर इसमें सदगुण के मोती बोऊँगा।
बहुत थका हूँ अब सोऊंगा॥
तीरथ-तीरथ गया मगर,जब खोजा तब श्रीराम यहीं थे।
सब का भला अगर कर पाता,तो सारे आराम यहीं थे॥
दुनियादारी के चक्कर में फंसकर,यूँ ही रहा भटकता।
उजला कोठा हो जाता तो सचमुच चारों धाम यहीं थे॥
अब जितने दिन शेष रह गए,उनको व्यर्थ नहीं खोऊंगा।
बहुत थक गया,अब सोऊंगा॥
                              #राम अवतार शर्मा’इन्दु’
परिचय :राम अवतार शर्मा का साहित्यिक उपनाम-‘इन्दु’ है। उत्तर प्रदेश राज्य से नाता रखने वाले श्री शर्मा की जन्म तिथि २७ जुलाई १९५३ और जन्म स्थान बजरिया निहालचंद (फर्रुखाबाद) है। वर्तमान में भी आप शहर फर्रुखाबाद में ही निवासरत हैं।आपकी शिक्षा परास्नातक और अध्यापक प्रशिक्षण प्राप्त किया है। कार्य क्षेत्र सम्पूर्ण उत्तर प्रदेश है। आप प्रधानाचार्य पद से सेवानिवृत्त होकर सामाजिक क्षेत्र में सक्रिय हैं। लेखन विधा-कविता,समीक्षा,गद्य तथा निबंध है। प्रकाशन में आपके खाते में पांडवेश्वर शतक, त्यागमूर्ति मंथरा एवं दशरथ आदि है, तो १२ अप्रकाशित पुस्तकें हैं। विविध संस्थाओं द्वारा अनेक सम्मान दिए गए हैं,जिसमें छंद सम्राट की उपाधि बड़ी उपलब्धि है। आपके लेखन का उद्देश्य जनजागरण ही है। 

matruadmin

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

बदनामी

Sat Nov 11 , 2017
हिफाजत की नजर में नजरों को गुलाम कर बैठी, बिखर कर जुल्फ चेहरे पर कत्लेआम कर बैठी। वाकिफ हो भला कैसे हकीकत से नुमाइश की, अपनी पहंचान को जब गैर के वो नाम कर बैठी। बगावत हम भी करते थे पर तूफान को कम कर, मेरे अल्फाज को वो मेरा […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।