गणतंत्र दिवस विशेष- हमारा गणतन्त्र अपना

2 0
Read Time1 Minute, 17 Second

आया है आज फिर से गणतंत्र दिवस अपना,
लेकर कई जाबाज़ों की यादों को साथ,
मत भूलना क़ुर्बानी को उनके एक पल को भी,
जिनके बलबूते गणतंत्र का तिरंगा फहरा रहे आज।

नहीं मिला अपना संविधान इतनी आसानी से हमें,
करनी पड़ी मेहनत लगातार अनेक दिन और रात,
कितने ही मशक्कत और मुश्किलों का किया सामना,
तब जाकर बना दुनिया का सबसे बड़ा लिखित संविधान।

आज़ादी से भी पहले शुरू हुआ था लिखना संविधान,
विद्वानों ने अपने बुद्धि-विवेक से कर डाला यह कठिन काम,
२६ जनवरी १९५० को लागू हुआ हमारा यह संविधान,
पूर्ण आज़ादी मिली उस रोज़ हुआ स्वराज का सपना साकार।

मत देना देश तोड़ने वाली शक्तियों को कभी बढ़ावा,
अपनी एकता के बल पर तोड़ देना उनका हौंसला,
हम भारतवासी हैं एकता की मिसाल इस जगत में,
सभी के लिए बसा है भरपूर प्यार हमारे हृदय में।

#बिप्लव कुमार सिंह
फ़रीदाबाद, हरियाणा

matruadmin

Next Post

गणतंत्र दिवस विशेष- विन्रम प्रणाम

Mon Jan 23 , 2023
गणतंत्र दिवस का करते हैं हम गुणगान, लहू बहाकर जिसने दी हमें आज़ादी। करते हैं हम उन्हें शत्-शत् नमन। क्या करेंगे हम उनकी महिमा का गुणगान।। वो तो थे हज़ारों-लाखों में महान। ऐसे वीर सपूतों को करते हैं हम प्रणाम।। उन माताओं के सामने झुकाते हैं सिर अपना। जिन्होंने दिया इस देश […]

पसंदीदा साहित्य

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।