चिड़िया

2 0
Read Time1 Minute, 49 Second

मैं एक उड़ती चिड़िया सी,
किस ओर निकल जाऊँ कह नहीं सकती
पंख फैलाए आसमान में
क्षितिज को छू आऊँ कह नहीं सकती।

कभी बैठूं मैं इस डाल पर
कभी निकल जाऊ दूर गगन
कभी मुंडेर पर बैठ गाऊँ।
कभी पानी में करू छपक

मुझे पाना नहीं है कुछ, न ही खोने के लिए है कुछ
मुझे तो बस उड़ना है, दूर गगन तक उड़ना है।

ये प्यारी सी है दुनिया अपनी,
इसी में मुझे खुश रहना है
मैं एक नन्हीं चिड़िया सी,
कब कहाँ मैं उड़ जाऊँ कह नहीं सकती।

रुचिता तुषार नीमा

इन्दौर

परिचय

जन्म – 2 जुलाई
शिक्षा: स्नातकोत्तर (जूलॉजी) होलकर साइंस कॉलेज,
B.ed. इग्नू
प्रकाशन –
पुस्तक प्रकाशन
‘अज्ञात की खोज’

(कविता संग्रह जो साहित्य अकादमी के द्वारा अनुदान हेतु चयनित)

अनेक पत्र पत्रिकाओं में कविताओं, आलेख और लघुकथा का प्रकाशन एवं साझा कृतियों में प्रकाशन

प्राप्त सम्मान/पुरस्कार:
संस्कृति श्री अलंकरण(मंथन इंटरनेशनल जबलपुर),
देशभक्ति गौरव सम्मान( जागरण संस्था),
सुर्मिला अलंकरण (नेमा दर्पण)
काव्य आभा अलंकरण ,
वर्तिका शक्ति श्री सम्मान ,
शब्द साधना अलंकरण ,
मध्यप्रदेश नारी गौरव सम्मान,
मंथन काव्य पीयूष अलंकरण,
राष्ट्रीय हिंदी रक्षक मंच एवं अन्य संस्थाओं द्वारा सम्मानित

matruadmin

Next Post

आकाश छूने की बात कोई कवि ही कर सकता है - सत्यनारायण सत्तन

Tue Dec 6 , 2022
सम्मान समारोह एवं पुस्तक विमोचन कार्यक्रम संपन्न इन्दौर। कवि ब्रह्मा हो जाता है जब वह नई ऋचाएं रचता है । सृष्टि सृजन से प्रलय तलक मानव उसको पढता है। “आकाश छूने की बात कोई कवि ही कर सकता है । साहित्य अथाह सागर है तो कवि करुणा का सागर होता […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।