आकाश छूने की बात कोई कवि ही कर सकता है – सत्यनारायण सत्तन

0 0
Read Time3 Minute, 12 Second

सम्मान समारोह एवं पुस्तक विमोचन कार्यक्रम संपन्न

इन्दौर। कवि ब्रह्मा हो जाता है जब वह नई ऋचाएं रचता है ।
सृष्टि सृजन से प्रलय तलक मानव उसको पढता है। “आकाश छूने की बात कोई कवि ही कर सकता है । साहित्य अथाह सागर है तो कवि करुणा का सागर होता है। “
मालवांचल के सुप्रसिद्ध कवि पंडित श्रीधर जोशी की चतुर्थ पुण्यतिथि के अवसर पर आयोजित सम्मान एवं वरिष्ठ कवि धीरेंद्र जोशी के काव्य संग्रह” छू लो तुम आकाश” के विमोचन समारोह में प्रसिद्ध राष्ट्रकवि कवि सत्यनारायण सत्तन जी ने मुख्य अतिथि के रूप में संबोधित करते हुए उक्त विचार रखे।कार्यक्रम की अध्यक्षता वरिष्ठ कवि नरेंद्र मंडलोई जी ने की। उन्होंने कहा, श्रीधर जी जोशी मानवीय संवेदनाओं के कवि थे। और उनके सुपुत्र धीरेंद्र जोशी भी उसी परंपरा को आगे बढ़ा रहे हैं।
विशेष अतिथि के रूप में में उस्ताद अलाउद्दीन खां संगीत एवम् कला अकादमी म प्र के निदेशक जयंत भिसे जी ने कहा,
पाश्चात्य की एकल व्यक्ति प्रणाली की तुलना में हमारी परिवार प्रणाली बहुत मजबूत है। परिवार से मिलने वाले संस्कार हमें जीवन में हर क्षेत्र में आगे बढ़ने में मदद करते हैं।

विशेष अतिथि के रूप में बैंक ऑफ बड़ौदा के से. नि. चीफ मैनेजर नरेंद्र उपाध्याय उपस्थित थे।
कार्यक्रम में शिक्षाविद एवम साहित्यकार डा .पद्मा सिंह को मालव मयूर सम्मान से सम्मानित किया गया। श्रीमती ललिता जोशी ने अतिथियों का स्वागत किया
विमोचित पुस्तक की समीक्षा साहित्यकार डा दीपा व्यास द्वारा की गई। अतिथि परिचय साहित्यकार मुकेश तिवारी ने दिया। कार्यक्रम का संचालन वरिष्ठ कवि सुषमा दुबे ने किया। आभार प्रदर्शन शैलेंद्र जोशी ने किया।


कार्यक्रम में साहित्य जगत से आदरणीय हरेराम वाजपेई, प्रदीप नवीन, रामलाल प्रजापति ,देवेंद्र सिंह सिसोदिया ,अर्चना मंडलोई, माधुरी व्यास, वाणी जोशी, सपना साहू, डॉ अर्पण जैन, चकोर चतुर्वेदी,मुकेश इंदौरी, राधेश्याम गोयल, द्रोणाचार्य दुबे, कुमुम मंडलोई,राधिका मंडलोई,मनोहर दुबे समेत कई अन्य साहित्यकार और परिजन उपस्थित थे।

matruadmin

Next Post

गीता का सार

Thu Dec 8 , 2022
कुरुक्षेत्र की भूमि पर गिरा हर वो शख्स कृष्ण थे, गदा धनुष विलीन भाल देह रक्त कृष्ण थे। पार्थ के सारथी कर्ण के भी मित्र थे । युधिष्ठिर की प्रतिज्ञा तो दुर्योधन का लक्ष्य थे । पांडवों की जीत कौरवों की हार थे रण क्षेत्र में चारों तरफ भगवान ही […]

पसंदीदा साहित्य

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।