अच्छे दिनों वाली कहानी नहीं है

0 0
Read Time34 Second

अच्छे दिनों वाली कहानी नहीं है
बेरोजगारी में आमदानी नहीं है

जुमले के सिवा यहाँ मिला क्या है
कैसे न कहें कि मनमानी नहीं है

विकास तो कागजों में नजर आया
सच यही सड़क नहीं तो पानी नहीं है

तड़प इतनी भूख से मर रहा कोई
सुध नहीं,किसी की मेहरबानी नहीं है

फटे हाल जीने पर मजबूर है आदमी
सुबह न तो कोई शाम सुहानी नहीं है

किशोर छिपेश्वर”सागर”
बालाघाट

matruadmin

Next Post

इस्मत चुगताई की अफसाना निगारी

Sun Jul 18 , 2021
इसमें कोई शक नहीं कि इस्मत उर्दू फिक्शन के बेताज बादशाह हैं।उन्होंने मुस्लिम समाज में मध्यम वर्ग की लड़कियों के मानसिक और मनोवैज्ञानिक भ्रम और उनसे उत्पन्न होने वाली समस्याओं को अपने उपन्यासों और मिथकों का विषय बनाया है। चौथी जोड़ी उनका प्रसिद्ध उपन्यास है जो उनकी भावनाओं, टिप्पणियों और […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।