जैसे कर्म के रहे हैं,वैसे ही फल पा रहे हैं

Read Time0Seconds

ये कैसे जमाना आया है,ये दुनिया कहां जा रही है।
जैसे किए हैं कर्म इसने,वैसे ही ये फल पा रही हैं।।

पेड़ काट काट कर दुनिया,प्रकृति का दोहन कर रही है।
आज मुर्दे को जलाने के लिए लकड़ी भी न मिल रही हैं।

ये कैसे संस्कार है दुनिया के अपनी सभ्यता मिटती जा रही है।
जिसके हाथ में राखी बांधी थी,उसी के साथ वह भागी जा रही है।

जिसको माना था महाशक्ति,वहीं नारी गुल खिला रही है।
अपने पति को मारकर,प्रेमी के साथ खिल खिला रही हैं।।

पारदर्शी वस्त्र पहन कर,अपने अंगों का प्रदर्शन कर रही है।
फटी जींस पहन कर,वह दुनिया को क्या दर्शाने जा रही हैं।।

शादी के पवित्र बन्धन में,आज आग लगाती जा रही है।
शादी से पहले ही लड़कियां,खूब रंगरलियां मना रही हैं।।

आज चुनाव रैलियों में काफी भीड़ इकट्ठी होती जा रही हैं।
भीड़ इकट्ठी करके आज,कोरोना को निमंत्रण देने जा रही है।।

जो होते थे कोठे में कारनामे,वे सब कोठियों में हो रहे हैं।
वैशायाओ को लोग यूंही बेकार में ही बदनाम कर रहे हैं।।

बेटा आज कलयुग में मां बाप को रोज आंखे दिखा रहा है।
उनकी प्रॉपर्टी छीनकर उनको ही वृद्धआश्रम दिखा रहा है।।

लिखने को बहुत कुछ है पर रस्तोगी का मन दुःखी हो रहा है।
क्योंकि कागज कलम भी आज मुझे ही बेदखल कर रहा है।।

आर के रस्तोगी
गुरुग्राम

0 0

matruadmin

Next Post

कालाबाजारी

Wed May 12 , 2021
ज़रा शर्म करो ओ हैवानों, ना इतने बड़े तुम पाप करो। दौलत के मद में अंधे होकर, ना मानवता का विनाश करो। आफत के इस अवसर में, स्वार्थ ना अपना सिद्ध करो। होकर लालच के वशीभूत, तुम ना खंजर से वार करो। मोल भाव कर डाला तूने, ना जाने कितनी […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।