प्यारी गौरैया

0 0
Read Time1 Minute, 35 Second

तन मन में हमारे गौरैया,
उमंग नई भर जाती है।
फुदक फुदक गौरैया जब,
पास हमारे आती है।

नन्हे नन्हें पंखों वाली,
कितनी प्यारी प्यारी है।
हम सबके घर आँगन की,
गौरैया शान हमारी है।

चूँ चूँ का गाना गाकर ये,
सबका दिल बहलाती है।
जब गौरैया दाना चुगने,
चौबारे पर आती है।

छोटी सी प्यारी गौरैया ,
करतब खूब दिखलाती है।
हौंसलों की ताकत से ,
अम्बर नाप ले जाती है।

कद है छोटा गौरैया का,
पर इरादे बड़े वो रखती है।
अपने मेहनत कर दम पर,
जीवन में खुशियाँ भरती है।

नटखट से अंदाज तेरे,
सबके मन को भाते हैं।
संग तेरे उड़ जाने को,
सपने खूब सजाते हैं।

कहाँ गई हो गौरैया तुम,
अब नजर ना आती हो।
सच बोलते हैं हम सब,
याद हमें तुम आती हो।

माफ़ करो गौरैया हमें तुम,
हम गुनहगार तुम्हारे हैं।
काट पेड़ और जंगल सब,
घर बार तेरे उजाडें हैं।

विलुप्त हो रही गौरैया अब,
ये बात बड़ी दुःखदायी है।
चलता रहा ये सिलसिला जो,
अब शामत हमारी आई है।

आओ लें संकल्प आज हम,
गौरैया को बचाएँगे।
वृक्षारोपण करके गौरैया का,
घर और द्वार सजाएँगे।

सपना (स. अ.)
प्रा.वि.-उजीतीपुर
वि.ख.-भाग्यनगर
जनपद-औरैया

matruadmin

Next Post

सावन ! सज्जन बुगुन जन

Sun Mar 21 , 2021
गिरि-सरिता पूजन बुगुन, क्ष्यत्सोई त्योहार। उमंग मोथोंग, डिंग्खो, सफल फसल आहार।१। सम्मानित गांव- बूढा , गांव- सरकार सेतु। शांति, सहायता, सेवा, ग्रामीण न्याय हेतु।२। पश्चिम कमेंग में बुगुन, कस्पी, वान्हूं, बिछुंग। गिरि मांगोपा, नाम्फरी, बसे गांव शींचुंग।३। मार्फियो, लाली, फिन्या, सराई, ग्लो, फियोंग। क्ष्यत्सई, फम्खो, डींग्खो, गोम्पा में मोथोंग।४। बुगुन […]

पसंदीदा साहित्य

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।