सद्कर्म

0 0
Read Time38 Second

जो भी कर्म हम कर रहे
उसे समझ लें हम यार
परमात्म आँख देख रही
खड़ी हमे उस पार
आत्मा को जो अच्छा लगे
ऐसा सदकर्म करे हर बार
तभी हमें मिल सकेगा
परम् पिता का प्यार
कोई जगह ऐसी नही है
जिस पर न पड़ सके
परमात्मा की नजर
फिर किसी से छिपाना कैसा
करते रहो सदा सद्कर्म
यह सद्कर्म ही हमारी नैया
जीवन की पार लगा देगा
हमे पतित से पावन बना
एक अच्छा इंसान बना देंगा।
#श्रीगोपाल नारसन

matruadmin

Next Post

अच्छे दिन कहने की बात है……

Sat Feb 20 , 2021
देश के देखो ऐसे अब हालात है अच्छे दिन सिर्फ कहने की बात है अफसर बिक गए,बिक रहे नेता भी हो रही सब तरफ मुक्का लात है मौसम पर भी अब भरोषा नहीं हो रही देखो बेमौसम ये बरसात है सो गया देख लो और ज़मीर मर गया आदमी की […]

पसंदीदा साहित्य

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

आपका जन्म 29 अप्रैल 1989 को सेंधवा, मध्यप्रदेश में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर हुआ। आपका पैतृक घर धार जिले की कुक्षी तहसील में है। आप कम्प्यूटर साइंस विषय से बैचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कम्प्यूटर साइंस) में स्नातक होने के साथ आपने एमबीए किया तथा एम.जे. एम सी की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। आपने अब तक 8 से अधिक पुस्तकों का लेखन किया है, जिसमें से 2 पुस्तकें पत्रकारिता के विद्यार्थियों के लिए उपलब्ध हैं। मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष व मातृभाषा डॉट कॉम, साहित्यग्राम पत्रिका के संपादक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मध्य प्रदेश ही नहीं अपितु देशभर में हिन्दी भाषा के प्रचार, प्रसार और विस्तार के लिए निरंतर कार्यरत हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 21 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण उन्हें वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया। इसके अलावा आप सॉफ़्टवेयर कम्पनी सेन्स टेक्नोलॉजीस के सीईओ हैं और ख़बर हलचल न्यूज़ के संस्थापक व प्रधान संपादक हैं। हॉल ही में साहित्य अकादमी, मध्य प्रदेश शासन संस्कृति परिषद्, संस्कृति विभाग द्वारा डॉ. अर्पण जैन 'अविचल' को वर्ष 2020 के लिए फ़ेसबुक/ब्लॉग/नेट (पेज) हेतु अखिल भारतीय नारद मुनि पुरस्कार से अलंकृत किया गया है।