बैजनाथ चालीसा

2 0
Read Time3 Minute, 56 Second

आगर के उत्तर बसे,बैजनाथ भगवान।
मनोकाम पूरण करें, सदा संवारे काम।।
ऊपर मंगलनाथ है,खेड़ापति के पास।।
मोपे किरपा कीजिये,एक तुम्हारी आस।।

रत्ना मोती सुंदर सागर।
धन्य भूमी है माता आगर।।१
मध्यदेश की थी रजधानी।
नवम सदी इतिहास बखानी।।२
अचलेश्वर मां तुला भवानी।
भेरु केवड़ सबके स्वामी।।३
जय जय बैजनाथ भगवाना।
तुम्हरी कीरति सब जग जाना।।४
आगर उत्तर भेटा ग्रामा।
गंगा तट पावन स्थाना।।५
अमरत नीरा पेड़ घनेरे।
जंगल वास करें शिव मेरे।।६
आसपास पर्वत हरिआये।
नित उठ भोले का जस गायें।।७
कपियन की तो फौज बसाई।
पशु पक्षी रहते हरषाई।।८
संवत पंद्रह सौ पिच्चासी।
माघ चौथ शुक्ला अविनाशी।९
मोड़ वैश्य ने नींव खुदाई।
छोटा सा मंदिर बनवाई।।१०
राजा रानी दुख में आए।
कुष्ठ रोग से मुक्ति पाए।।११
गौ माता की कथा पुरानी।
पयअभिषेक करें नितआनी।१२
सन अट्ठारह सौ उन्यासी।
कर्नल मारटिन थे अगाशी।।१४
काबुल नगरी कीन पयान।
छोटी सेना आयुध नाना।।१५
पतिदेव पर घात न आनी।
मंदिर की थी मन में ठानी।।१६
बाबा रण थे साधु वेश में।
करते वारा खड़ग तेश में।।१७
तिरशूल मार सही न जाई।
विपद देख सेना घबराई।।१८
रण में नायक विजया पाई।
पाती पत्नी को भिजवाई।।१९
भारत से इक बाबा आयो।
बाने मोही जंग जितायो।।२०
पत्नी प्रेरित कर्नल आई।
मंदिर की नीति बनवाई।।२१
देश देश से भूप बुलाये।
नवनिर्माण दान करवाये।।२२
सन अट्ठारह सौ तर्रासी।
पूरी सहस इकादश राशी।।२३
मास जुलाई सन इकतीसा।
जय नारायण पायो ईशा।।२४
शंकर सुमिरन भूले देहा।
तीन बजे जब आये गेहा।।२५
लागी भूख न पानी प्यासा।
भूले कचहरी फूली सांसा।।२६
शिव ने सीधी पेशी कीनी।
केस जितायो भक्ति दीनी।।२७
नंदी नायक अंब विराजे।
ढोलक डमरू घंटा बाजे।।२८
शबरी मंगल हनुमत मंदर।
कूदे फांद करें सब बंदर।।२९
पाठ रामायण भी नित होवे।
पूजन भक्ति मन को मोहे।।३०
लगन पत्रिका शिव से पाई।
काज करें मन में हरषाई।।३१
अंतिम क्रिया करते घाटा।
पिंडदान अरु तीरथ बाटा।।३२
दूर-दूर से साधू आते।
अन्नक्षेत्र में भोजन पाते।३३
बैजनाथ महिमा जो गाते।
वे नर भवसागर तर जाते।३४
खाय भभूत पीवे शिव नीरा।
काटे रोग हरे सब पीरा।।३५
गांव गांव से झंडे आते।
बाबा का सब ध्यान लगाते।३६
श्रावण अंतिम सोमवारा।
भव्य सवारी अरु भंडारा।।३७
जो भी द्वारे तेरे आता।
मन वांछित सारे फल पाता।३८
जयजय जय भोले सुखदाई।
महिमा तेरी वेदन भाई।।३९
दास मसानी ने पद गाया।
तूने ही तो पार लगाया।।४०

यह चालीसा जो पढ़े,और करे विश्वास।
बैजनाथ दरबार में, होती पूरी आस।।
मार्टिन को जंग में, हातिम को व्यापार।
बापजी करी पैरवी,मोहि लगाओ पार।।

डॉ दशरथ कुमार मसानिया
आगर मालवा

matruadmin

Next Post

मां कोटि कोटि तुझे प्रणाम

Sun Oct 18 , 2020
मां कोटि कोटि तुझे प्रणाम, करते तुझे हम सुबह शाम। मां सर पर रहे तेरा सदा साथ, कभी न छूटे तेरा हमसे साथ। तुम दुनिया की रखवाली हो, बिगड़े काम बनाने वाली हो। करे याद तुझे हम सुबह शाम। मां कोटि कोटि तुझे है प्रणाम।। मन में न आये कोई […]

पसंदीदा साहित्य

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।