श्रीराम मंदिर का निर्विघ्न निर्माण कर राम द्रोहियों को सद्बुद्धि दें भगवान : विनोद बंसल

0 0
Read Time3 Minute, 3 Second

श्रीराम जन्मभूमि मंदिर के शुभ आरम्भ हेतु दक्षिणी दिल्ली में हुआ यज्ञ

नई दिल्ली। जुलाई 26, 2020। अयोध्या की पावन नगरी में भगवान श्री राम के भव्य मंदिर के निर्माण हेतु होने वाले ऐतिहासिक पूजन कार्यक्रम तथा उसके उपरांत मंदिर का निर्माण कार्य द्रुत गति से निर्विघ्न सम्पन्न हो, इस हेतु से आज दक्षिणी दिल्ली में यज्ञ (हवन) का आयोजन किया गया। यज्ञोपरांत कार्यक्रम के यजमान व मुख्यवक्ता विश्व हिंदू परिषद के राष्ट्रीय प्रवक्ता श्री विनोद बंसल ने कहा कि हमने इसी यज्ञशाला में बैठकर जन्मभूमि की मुक्ति हेतु अनेक यज्ञ प्रार्थनाएं कीं जिनकी पुकार को सुनकर ही भगवान् ने 9 नवम्बर 2019 को माननीय सर्वोच्च न्यायालय के माध्यम से एक अभूतपूर्व निर्णय सुनाया. अब हमारा यह भी दायित्व है कि हम सभी मिलकर आगामी 5 अगस्त को जन्मभूमि पर होने वाले ऐतिहासिक कार्यक्रम तथा उसके उपरान्त मंदिर निर्माण कार्य को निर्विघ्न सम्पन्न होने के लिए भी प्रभु से प्रार्थना करें. हमें आशा है कि भगवान उन सभी राम द्रोहियों को भी सद्बुद्धि देकर अयोध्या धाम की और लौटाएंगे जो अभी भी बाबर वादियों के पिछलग्गू बने हुए हैं.

इस राम मंदिर निर्माण मंगल कामना यज्ञ (हवन) के उपरांत वैदिक विदुषी व यज्ञ की ब्रह्मा दर्शनाचार्या श्रीमती विमलेश आर्या ने कहा कि श्री राम मंदिर परिसर में एक यज्ञशाला व योगशाला के साथ साथ एक वैदिक गुरुकुल भी हो क्योंकि भगवान् श्री राम का सम्पूर्ण जीवन देवमय था.

दक्षिणी दिल्ली के संत नगर स्थित आर्य समाज मन्दिर में कोरोना महामारी सम्बन्धी नियमों का पालन करते हुए आज सायंकाल हुए इस भव्य कार्यक्रम में समाज सेवी श्री संजय सिकरिया, राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के श्री टेकराज शर्मा, श्रीमती गुरमीत कौर, पार्वती देवी, छोटेलाल, विदुषी व दक्ष सहित अनेक श्रद्धालु सम्मिलित थे।

भवदीय

विनोद बंसल

(राष्ट्रीय प्रवक्ता)

विश्व हिन्दू परिषद

matruadmin

Next Post

रक्षा का….

Mon Jul 27 , 2020
रिश्तों में सबसे प्यारा, है राखी त्यौहार हमारा। बना रहे स्नेह प्यार, भाई-बहिन में सदा। राखी के कारण ही बहिना, मिलने आती भाई से। और याद दिला देती रक्षा के उन वचनों को। रक्षा के उन वचनों को।। संबंध हमेशा बना रहे, रिश्तों की डोर से बंधे रहे। बना रहे […]

पसंदीदा साहित्य

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।