मालिक एक

0 0
Read Time1 Minute, 14 Second

कोई गीता समझता है कोई कुरआन पढ़ता है
मगर ईश्वर की महिमा को नहीं नादाँ समझता है।
वो तेरे पास ऐसे है, हृदय में श्वास जैसे है
जो उनका बन ही जाता है, ये बस वो ही समझता है।
कोई गीता समझता है कोई कुरआन पढता है,
मगर ईश्वर की महिमा को नहीं नादाँ समझता है।
धर्म मजहब के नामों पर कई आपस में लड़ते है।
कई अल्लाह कहते है, कई भगवान कहते है।
वो मालिक एक है, उसने सभी को एक माना है।
नहीं हिन्दू मुसल्माँ सिक्ख, बस मानव ही जाना है।
कोई गीता समझता है कोई कुरआन पढ़ता है,
मगर ईश्वर की महिमा को नहीं नादाँ समझता है।
गुरु नानक कबीर यीशु सभी संदेश देते एक
चमन है एक हम सबका, और मालिक है सबका एक
कई रंगो के फूलों से,चमन वो ही सजाता है।
रहे सब मिल के आपस में यही मालिक बताता है।
कोई गीता समझता है कोई कुरआन पढ़ता है
मगर ईश्वर की महिमा को नहीं नादाँ समझता है।।

अजय एहसास

अम्बेडकर नगर (उ०प्र०)

matruadmin

Next Post

जंगलराज

Thu Jul 9 , 2020
अहिंसा पर हिंसा भारी कैसी हो गई ये लाचारी खाकी में भी गद्दार छिपे बदमाशों से ही जा मिले दगा कर निर्दोष मरवाये अपराधी मौके से भगाये बाड़ खेत को खा रही है हिंसा फ़सल लहला रही है दल भी, दल दल में फंसे ‘विकास ‘जैसे उनके सगे कैसे हो […]

पसंदीदा साहित्य

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।