दुम दबा के ड्रैगन भागा

0 0
Read Time2 Minute, 42 Second

जिनको हमने दोस्त बनाया ,
वही पीठ पर भोके खंजर।

जिनको हमने अपना माना
उनके हाथ खून से लता पथ।

देखो चीन पुनः सीमा पर,
युद्ध करने के लिए आया है ।

भारत ने भी ठान लिया है ,
अक्साई भारत बनाना है ।।

तम्बू गाड़े या बनाये बंकर ,
सब मिटा देंगे वीर बनकर ।।

सैनिकों में जोश भरकर
हम बढ़ायेगे अपनी सरहद।।

पुरानी हो चुकी वो युद्ध प्रणाली ,
जो बासठ में तुमने देखी थी ।

धोखे से आकर तूने
खून की होली खेली थी ।

अब यह बीस बीस का
विकसित भारतवर्ष है ।

एक जवान बीस बीस चीनी पर
भारी पड़ा था15 जून की रात थी।

है औकात तो बताओ अपनों को
हमने कितनो की गर्दन तोडी थी।

दौडा दौडा कर पीटा गया
दुम तुम्हारी जात भाग गया।।

अब न तेरा कोई दोस्त यहाँ
जो समझौते कराएगा।

डरा धमाका कर मनमानी करे
अब और न हिन्द सहन करेगा।

याद कर लेना सन 67 को
जब भगा भगाकर मारा था ।

भारत तो सोने की चिड़िया
उसे पाने की जिद छोड़ दे।

अपनी हद मे रहो नही तो
तिब्बत और बुहान से मोह छोड़ दे।

दुनिया के नक्शे चीन सिमट जाएगा
भारत के सामने तू कहा टिक पाएगा।

उकसाने की गुस्ताखी न कर
नेपाल बंगला देश पाक हमारे औलाद है ।

कहाँ तक जाएँगे यह
सबके रहे हम बाप हैं ।।

देखो प्रधानमंत्री गरज रहे
ड्रैगन के पतलून फट रहे।

तैयारी है पूरी अबकी बार
एक बार हम जाए उसपार।

हाथो में सुर्दशन गन
दिलो में हिम सा हौसला है

आ जाओ सामने से
देखे तू कितना जोशीला है।

भारत जल थल नभ में
भारी है तुमसे ड्रैगन

संख्या बल हमारे कम होंगे
मगर बीस तीस पर एक भारी मसला है।

यहाँ अभिमानी टिके नही
क्योंकि हम स्वाभिमानी हैं।

तूझे घमंड है अपनी शक्ति पर
हमने कईयो के घमंड चूर किए।

पढ लेना इतिहास हमारे पूर्वजो की
एक राम संघार किए समूचे असूरो की।

हम न झूकेगें न रूकेंगे
और तुमसे भी जीतेंगे।

भारत माँ की खातिर
हर घर से फौजी निकलेंगे।

आशुतोष
पटना बिहार

matruadmin

Next Post

दूर रहो बस दूर रहो

Wed Jul 8 , 2020
न हम बदले न वो बदले, फिर क्यों बदल रहे इंसान। कल तक जो अपने थे, सब की आंखों में बसते थे। पर अब तो वो सिर्फ, सपनो जैसे देखते है। न हम न वो आये जाएं, अब एक दूसरे के पास।। न हम बदले न वो बदले, फिर क्यों […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।