मेवात के हिन्दुओं को अब मिलेगी मुक्ति, घोषणाओं पर अमल शीध्र हो: विहिप

0 0
Read Time4 Minute, 9 Second
                 नई दिल्ली। जून 17, 2020। हरियाणा के मेवात में दशकों से हिंदुओं पर हो रहे अत्याचारों को रोकने हेतु मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल खट्टर द्वारा की गई घोषणाओं का विश्व हिन्दू परिषद् ने स्वागत करते हुए इसे मेवात के अल्पसंख्यक हिन्दू समाज को इस्लामिक जिहादियों के अत्याचारों व आतंक से मुक्त करने की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम बताया है। इस हेतु संघर्ष-रत हिन्दू समाज, मीडिया चेनलों तथा अन्य सहयोगियों की एकजुटता को नमन् करते हुए विहिप के केन्द्रीय संयुक्त महामंत्री डॉ सुरेन्द्र जैन ने आशा व्यक्त की है कि मुख्यमंत्री की इन घोषणाओं पर शीघ्रातिशीघ्र अमल होगा जिससे पीड़ित समाज संतोष का अनुभव कर सके। उन्होंने यह भी कहा कि मेवात में धर्मांतरण, लव जिहाद, गोकशी पर रोक के अलावा यहाँ के अल्पसंख्यक हिन्दुओं की धार्मिक व सार्वजनिक सम्पत्तियों की सुरक्षा तथा आई आर बी की बटालियन की स्थापना जैसे कदम मेवात की आजादी की घोषणा से कुछ कम नहीं कहे जा सकते।  

     हरियाणा के मेवात में दशकों से हिंदुओं पर हो रहे अत्याचारों में लॉकडाउन के दौरान अभूतपूर्व वृद्धि हो गई थी। संपूर्ण देश के हिंदू समाज व मीडिया के एक वर्ग ने हिंदुओं की पीड़ा को दूर करने में एक प्रतिबद्धता दिखाई। इसका परिणाम निकला। जन भावनाओं का सम्मान करते हुए हरियाणा के मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल खट्टर कल, 16 जून को नूँह(मेवात) में पहुंचे और हिंदू समाज की पीड़ा को सुना व समझा। उन्होंने हिंदू समाज की लंबे समय से लंबित मांगों को स्वीकार करते हुए कुछ घोषणाएँ भी कीं:
  1. धर्मांतरण व लव जिहाद को रोकने के लिए धर्मांतरण विरोधी कानून बनाया जाएगा।
  2. गोकशी के मामलों को फास्ट ट्रैक कोर्ट में सुना जाएगा। गौ हत्यारों को कड़ी सजा दिलवाने के लिए यदि आवश्यकता होगी तो वर्तमान कानून में आवश्यक संशोधन किया जाएगा।
  3. नूँह(मेवात) में आई आर बी की बटालियन स्थापित की जाएगी जिससे मेवात में कानून का राज्य पुन: स्थापित करने में सहायता मिल सके।
  4. हिंदुओं धार्मिक व सार्वजनिक संपत्तियों पर से कब्जा हटाकर उनके लिए एक बोर्ड बनाया जाएगा जो इन संपत्तियों की देखभाल व सुरक्षा सुनिश्चित करेगा। विश्व हिंदू परिषद इन घोषणाओं का स्वागत करता है। इन घोषणाओं से हिंदू समाज के संकल्प की विजय हुई है। हरियाणा के मुख्यमंत्री ने जन भावनाओं का सम्मान किया और समाज की भावनाओं के प्रति संवेदनशीलता का परिचय दिया। विश्व हिंदू परिषद विश्वास व्यक्त करती है कि हरियाणा के मुख्यमंत्री अपनी घोषणाओं को शीघ्रातिशीघ्र लागू करेंगे और मेवात का हिंदू समाज अब स्वाभिमान, सम्मान तथा सुरक्षा के साथ अपना जीवन यापन कर सकेगा।

जारीकर्ता:
विनोद बंसल
राष्ट्रीय प्रवक्ता, विश्व हिंदू परिषद

matruadmin

Next Post

इश्क आसान नही

Thu Jun 18 , 2020
क्यों एक पल भी तुम बिन रहा नहीं जाता। तुम्हारा एक दर्द भी मुझसे सहा नहीं जाता। क्यों इतना प्यार दिया तुमने मुझ को। की तुम बिन अब जिया नहीं जाता।। तुम्हारी याद आना भी कमाल होता है। कभी आकर देखना क्या हाल होता है। सपनो में आकर तुम चले […]

पसंदीदा साहित्य

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।