मज़दूर

1 0
Read Time3 Minute, 31 Second

कामिनी देवी जब कभी भी अपने राइस मिल पर जाती थीं, माधो से ज़रूर मिलती थीं। माधो उनकी राइस मिल में कोई बड़ा कर्मचारी नहीं, बल्कि एक मज़दूर था। राइस मिल में काम करने वाले सभी लोगों का मानना था कि माधो कामिनी मैडम का सबसे विश्वासी कामगार है क्योंकि वह कभी झूठ नहीं बोलता।

माधो गठीले बदन वाला छब्बीस वर्षीय अविवाहित नौजवान था। उसकी मेहनत और ईमानदारी की प्रशंसा उसे जानने वाला प्रत्येक व्यक्ति करता था। बयालीस वर्षीया कामिनी देवी के पति वाल्मीकि सिंह एक सफल उद्योगपति थे। तक़रीबन एक वर्ष पूर्व सड़क दुर्घटना में वाल्मीकि सिंह की रीढ़ की हड्डी टूट गई। रीढ़ की हड्डी का इलाज हुआ, लेकिन डॉक्टरों ने कह दिया कि पूरी ज़िंदगी बिस्तर पर लेट कर ही गुजारनी पड़ेगी।

श्रम दिवस होने के कारण चीनी मिल के सभी कर्मचारी छुट्टी पर थे। कामिनी देवी ने माधो को फ़ोन कर चीनी मिल पर आने को कहा। माधो बिना कोई सवाल किए चीनी मिल पहुंच गया। कुछ ही देर में कामिनी देवी भी अपनी कार से चीनी मिल पहुंच गईं। वहां पहुंचकर कामिनी देवी माधो को अपने केबिन में ले गईं और उसे अपने सीने से लगा कर बेतहाशा चूमने लगीं। कुछ मिनटों तक माधो कुछ भी समझ नहीं पाया। लेकिन जैसे ही उसके दिमाग़ ने काम करना शुरू किया, उसने कामिनी देवी के भूखे जिस्म से खुद को अलग कर लिया।

कामिनी देवी ने प्यासी नज़रों से देखते हुए माधो से कहा – “आओ माधो!”

“नहीं मैडम, यह गलत है! पाप है!” माधो ने कहा।

“किस पापी ने कहा है तुमसे कि यह ग़लत है ? यही सच्चा सुख है माधो। अब देखो ना, कहने को तो मेरे पास सब कुछ है, लेकिन इसके बिना सब व्यर्थ है।” कामिनी देवी ने समझाते हुए कहा।

माधो को चुपचाप सर झुकाए खड़ा देख कामिनी देवी बोलीं – “माधो, तुम तो कभी झूठ नहीं बोलते। इसलिए मैं जो पूछने वाली हूं, उसका सही जवाब देना।”

माधो ने सहमति में अपना सिर हिलाया।

“क्या तुम्हें शारीरिक सुख एवं प्यार की आवश्यकता महसूस नहीं होती ?” कामिनी देवी ने पूछा।

“होती है।” माधो ने जवाब दिया।

“तो फिर सोच क्या रहे हो माधो ? आओ मेरे पास और प्यार के समंदर में डूब जाओ।” कामिनी देवी ने मादकता भरी नज़रों से माधो को देखते हुए कहा।

“नहीं मैडम, हम मज़दूर हैं। हमारा काम मेहनत, निर्माण व सम्मान करना है, विध्वंस करना नहीं। फिर चाहे वह इज़्ज़त अथवा रिश्ता ही क्यों ना हो।” इतना कहकर माधो वहां से चला गया।

#आलोक कौशिक

पबेगूसराय (बिहार)

matruadmin

Next Post

गांधीनगर के आँगन मेंं महात्मा गांधी साहित्य सेवा संस्थान की ओर से गुजराती अॉनलाइन कवि सम्मेलन सम्पन्न हुआ

Sat May 2 , 2020
🌹’ ‘ गुलों का हश्र है खिलकर मूरझा जाना किन्तु उसका फ़र्ज भी है , चमन को महका जाना ‘ ‘🌹 संस्थाके सभी साथियों ने अपना धर्म निभाया । बधाई हो ! 🌹👏🏻 महात्मा गांधी साहित्य सेवा संस्थान के अध्यक्ष श्री डॉ गुलाबचंदभाई पटेल और सभी साथियों ने नींव रखी […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

आपका जन्म 29 अप्रैल 1989 को सेंधवा, मध्यप्रदेश में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर हुआ। आपका पैतृक घर धार जिले की कुक्षी तहसील में है। आप कम्प्यूटर साइंस विषय से बैचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कम्प्यूटर साइंस) में स्नातक होने के साथ आपने एमबीए किया तथा एम.जे. एम सी की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। आपने अब तक 8 से अधिक पुस्तकों का लेखन किया है, जिसमें से 2 पुस्तकें पत्रकारिता के विद्यार्थियों के लिए उपलब्ध हैं। मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष व मातृभाषा डॉट कॉम, साहित्यग्राम पत्रिका के संपादक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मध्य प्रदेश ही नहीं अपितु देशभर में हिन्दी भाषा के प्रचार, प्रसार और विस्तार के लिए निरंतर कार्यरत हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 21 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण उन्हें वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया। इसके अलावा आप सॉफ़्टवेयर कम्पनी सेन्स टेक्नोलॉजीस के सीईओ हैं और ख़बर हलचल न्यूज़ के संस्थापक व प्रधान संपादक हैं। हॉल ही में साहित्य अकादमी, मध्य प्रदेश शासन संस्कृति परिषद्, संस्कृति विभाग द्वारा डॉ. अर्पण जैन 'अविचल' को वर्ष 2020 के लिए फ़ेसबुक/ब्लॉग/नेट (पेज) हेतु अखिल भारतीय नारद मुनि पुरस्कार से अलंकृत किया गया है।