नया जमाना

0 0
Read Time1 Minute, 53 Second
aashutosh kumar
——————-
देखो नये जमाने की शान
डिजिटल के ही नाम
अंगूलियाँ दौड रही
स्क्रीन है जान
तार लटके है कान ।
—————————
जमाने का संगत पाकर
बच्चो में अक्ल की अकड़
स्क्रीन टच के संग
आँखो पर चश्मा की पकड़।
——————————
किताब कापी नहीं अच्छी
सब डिजिटल के नाम पर
खूद से बाते करते और हँसते भी
अपने आप पर।
————————
खुद से वेवफाई का मारा
तुझे वफादारी न आया।
रास्ते पर गिरे कितनी बार
पर तुझे गिरकर सम्भलना न आया।
——————————
चाँद को छूने की तमन्ना थी
लेकिन डिजिटल मोबाईल आया
पूछता हूँ एक शब्द भी
शर्मिंदा खूब मगर चिडचिड़ाना आया
दखो नया जमाना आया।
—————————-
बदलते मौसम की तरह
बदल रहा है परिवेश
अब तो हर मौसम का
मोबाईल दे रहा संदेश
बच्चो को भी तो अब
लुफ्त उठाना आ गया।
————————
मंजिले न मिल सकी
तो क्या हुआ
अब तो अंधेरों में भी
गेम चलाना आ गया।
————————-
चलते फिरते  बने मशीन
खास नही हैं फिर भी रंगीन
आजू-बाजू सामने क्या
बस सारा दिन मोबाईल की सीन।
—————————————-

“आशुतोष”

नाम।                   –  आशुतोष कुमार
साहित्यक उपनाम –  आशुतोष
जन्मतिथि             –  30/101973
वर्तमान पता          – 113/77बी  
                              शास्त्रीनगर 
                              पटना  23 बिहार                  
कार्यक्षेत्र               –  जाॅब
शिक्षा                   –  ऑनर्स अर्थशास्त्र
मोबाइलव्हाट्स एप – 9852842667
प्रकाशन                 – नगण्य
सम्मान।                – नगण्य
अन्य उलब्धि          – कभ्प्यूटर आपरेटर
                                टीवी टेक्नीशियन
लेखन का उद्द्श्य   – सामाजिक जागृति

matruadmin

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

भक्तयांजलि में अवगाहन

Thu May 23 , 2019
“वाक्यम रसात्मकम काव्यम” अर्थात आचार्य विश्वनाथ ने रसात्मक वाक्य को ही “काव्य”कहा है। कविता ही रसानुभूति कराती है। चाहे दुख का क्षण हो, चाहे सुख का। प्रत्येक क्षण में स्वत: ही कविता का जन्म हो जाता है, जब भाव, लय, छन्द,ताल आदि के द्वारा सुरमय हो जाता है, तभी कविता […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।