खिल रहे कनक

0 0
Read Time57 Second

sudama
खिल रहे कनक से अमलतास,
मस्ती में महुआ महक उठा।
अमराई में बोर महकते वन,
का खग मंडल चहक उठा।।

कोपल पात नवल से आए,
तरु चंचल मन बहक उठा।
कुसुम पलाश के खिले-खिले
कानन का आंगन दहक उठा।।

नव नूतन श्रृंगार किए प्रकृति,
का मुख मंडल दमक उठा।
बसंत टेर रहा उमंग में,
निज मन अम्बर चमक उठा।।

मस्त हुआ कानन मस्ती में,
ह्रदय सुमन फिर गमक उठा।रंग लिए गुलमोहर सिंदूरी,
ज्यौं अरण्य लावा भमक उठा।।

            #सुदामा दुबे

परिचय : सुदामा दुबे की शिक्षा एमए(राजनीति शास्त्र)है।आप सहायक अध्यापक हैं और सीहोर(म.प्र)जिले के बाबरी (तहसील रेहटी)में निवास है। आप बतौर कवि काव्य पाठ भी करते हैं।

matruadmin

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

तस्वीरी खयाल...

Mon Apr 3 , 2017
देश की खतिर दिल को तोड़े, घर अपना ये खुद ही छोड़े। कितने अरमा कितने सपने, ख्वाब सजाए दिल में कितने। याद सताए जब अपनों की, लिखी है पाती फिर सपनों की। मन बंजारा इत-उत डोले, पी की याद में मन ये बोले। लिख दूँ खत मैं तुमको जाना, मुश्किल […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।