जगत की जटिल राजनीति में उलझा हुआ भारत।

0 0
Read Time9 Minute, 24 Second

sajjad haidar

आज के समय में राजनीति ने सब-कुछ अपने हित के अनुसार बाँध रखा है। छोटे से छोटा प्रतिनिधि अपने इच्छा एवं राजनीति के समीकरणों के अनुसार ही फैसले लेता है। प्रत्येक फैसले राजनीतिक लाभ एवं हानि के अनुसार ही किए जाते हैं। क्योंकि, एक छोटा से छोटा नेता अपनी कुर्सी को कभी भी त्यागना नहीं चाहता। प्रत्येक राजनेता प्राप्त की हुई कुर्सी को सदैव के लिए हथियाना चाहता है। यदि शब्दों को परिवर्तित करके कहा जाए तो संभवतः गलत नहीं होगा कि प्रत्येक राजनेता को कुर्सी एवं सत्ता पर बने रहने की लालसा होती है जिसके लिए वह सब-कुछ कर गुजरने के लिए तैयार रहता है। इसी राजनीतिक कुर्सी को हथियाने के लिए नेता गण जातीय समीकरणों का भी ध्यान रखते हैं, समाजिक ताने-बाने को भी संपूर्ण रूप से ध्यान देते हैं। कुर्सी हेतु जनता को अपने पाले में कैसे करना है पूरा ध्यान इसी पर केंद्रित होता है। इससे इतर राजनीति का दूसरा रूप एक और भी है। जोकि, आजकल बड़ी ही तीव्रता के साथ में चलन में आया है। वह यह है कि यदि कोई भी उभरता हुआ नेता जोकि, आने वाले समय में हमारी कुर्सी को छीन सकता है उसके रोकने के लिए अनेकों प्रकार के उपाय करना। चाहे जिस प्रकार से उस उभरते हुए नेता को रोका जाए। परन्तु, उभरते हुए नेता को सत्ता पर विराजमान नेता सदैव दबाने का भरसक प्रयास करता है, साथ ही उसकी छवि धूमिल करने हेतु जातीय आधार पर भी उसको अलग-थलग करने का कार्य किया जाता है जोकि किसी से भी छुपा हुआ नहीं है। तमाम षड़यन्त्रकारी रूप रेखा को अपनाना आज की राजनीति का मुख्य हिस्सा है।
इन सभी राजनीतिक रूपरेखा को प्रस्तुत करना इसलिए आवश्यक था कि विश्व की जटिल राजनीति को देश की जनता तक स्पष्ट रूप से पहुँचाया जा सके। आज के समय में भारत एक उभरता हुआ राष्ट्र है, जिसमें किसी भी व्यक्ति को किसी भी तरह का संदेह नहीं है। आज के समय में विश्वस्तर पर भारत आपनी अलग ही छाप छोड़ने में सफल रहा है। चाहे आर्थिक रूप से हो, चाहे बौद्धिक रूप से हो, अथवा विश्वस्तरीय परमाणु शक्ति से सम्पन्नता के क्षेत्र में हो। पिछले कुछ समय से भारत बड़ी ही तीव्रता के साथ विश्व पटल पर आगे बढ़ने में सफल रहा है।
ज्ञात हो कि परमाणु पोखरों परीक्षण में पूर्व राष्ट्रपति ए0पी0जे0 कलाम की महत्वपूर्ण भूमिका रही है। जब हमारा देश परमाणु संपन्नता से सर्वशक्तिशाली बना तो विश्व स्तर पर भारत का विरोध चरम सीमा पर हुआ। उस समय भारत के प्रधानमंत्री स्व0 अटल विहारी वाजपेयी जी थे। विश्व में अपनी धाक रखने वाले अमेरिका और चीन ने भारत पर दबाव बनाने का भरसक प्रयास किया। परन्तु, अपने इरादों में अटल रहने वाले अटल जी ने पीछे मुड़कर नहीं देखा और उस समय भारत के सर्वश्रेष्ठ वैज्ञनिक ए0पी0जे0 कलाम के कंधों से कंधा मिलाकर अटल जी ने चलने का कार्य किया। जिसका परिणाम आज देश की जनता के सामने है। स्व0 कलाम जी ने भारत को संपूर्ण विश्व के सामने शीर्ष पर विराजमान किया। जिससे अमेरिका और चीन जैसे देशों को भारत की बुद्धिजीविता एवं सशक्तिकरण का लोहा मानना एवं नतमस्तक होकर स्वीकार्य करने पर विवश एवं मजबूर होना पड़ा।
उसके बाद लगातार भारत की बढ़ती हुई साख से अमेरिका और चीन दोनों अन्दर खाने भारत से ईर्ष्या रखते हैं। अमेरिका और चीन को इस बात का भय है कि यदि इसी प्रकार भारत विश्व स्तर पर अपनी साख बढ़ाता रहा तो हमारा पतन होना निश्चित है।
भारत के लिए ध्यान देने योग्य बिन्दु यह है कि अमेरिका और चीन जहाँ एक दूसरे के धुरविरोधी हैं वहीं पाकिस्तान पर दोनों का रवैया लचीला क्यों? इसके पीछे क्या उद्देश्य है। क्या, कभी ऐसा हो सकता है कि दो धुर विरोधी दुश्मन एक ऐसे देश से लगाव रखें जोकि, दुश्मन देश का घनिष्ठ मित्र हो। ज्ञात हो कि चीन से पाकिस्तान की दोस्ती जगजाहिर है। चीन एवं पाकिस्तान की मित्रता की पराकाष्ठा यह है कि चीन पाकिस्तान को एक छोटे भाई की तरह सम्मान देता है। जब-जब भारत ने पाकिस्तान पर दबाव बनाने का प्रयास किया तब चीन ने विश्व के सामने पाकिस्तान का खुलकर साथ दिया। समस्या तो यहां तक आ गई की यदि भारत पाकिस्तान के आतंकवादी संगठनों पर प्रतिबंध की बात करता है तो चीन खुलकर पाकिस्तान का समर्थन करते हूए भारत का विरोध करता है। विश्व स्तरीय एन0एस0जी सदस्यता इस बात का मजबूत प्रमाण है। न्यूक्लियर सप्लायर ग्रुप में भारत को शामिल न होने देने के लिए चीन ने अपनी पूरी ताकत लगा दी। चीन लगातार भारत का विरोध करता रहा और पाकिस्तान के प्रति चीन और अमेरिका दोनों का रवैया एक रहा।
दो विश्वस्तरीय धुरविरोधियों के बीच पाकिस्तान की दोनों से घनिष्टता एक ऐसी शतरंज रूपी चाल है जोकि, विश्व की राजनीति को समझने वालों के गले नहीं उतर रही है। अमेरिका जहाँ पाकिस्तान को आर्थिक मदद प्रदान करता है वहीं चीन पाकिस्तान के साथ कदम से कदम मिलाकर चलता है। जिसे भारत को बहुत ही गंभीरता पूर्वक समझने की आवश्यकता है। भारत के बढ़ते हुए कदम को रोकने के लिए यह विश्वस्तरीय सोची समझी साज़िश है। जिसे सुनियोजित ढंग से पाकिस्तान के माध्यम से भारत को आर्थिक,शारीरिक एवं बौद्धिक स्तर पर उलझाने का प्रयास है। इसे बहुत ही गंभीरता से सोचने की आवश्यकता है। क्योंकि, अमेरिका ने हथियारों की दुकान खोल रखी है जिसे अमेरिका पाकिस्तान के माध्यम से पूरे विश्व में चला रहा है। संपूर्ण विश्व आतंक से निपटने के लिए हथियार खरीदता है जिसका मुख्य निर्यातक अमेरिका और रूस है। चीन पाकिस्तान के साथ इसलिए खड़ा है कि वह भारत के हिन्दमहासागर में अपनी मज़बूत पैठ बनाना चाहता है। उसके बाद चीन डोकलाम एवं अरूणांचल प्रदेश में भी अपनी पैठ बनाना चहता है। भारत का एक बड़ा क्षेत्र जोकि पाकिस्तान के माध्यम से आज चीन के कब्जे में है।
अतः भारत को बड़ी ही बुद्धिजीविता के साथ पाकिस्तान की रूप रेखा को समझना चाहिए। क्योंकि, चीन और अमेरिका पाकिस्तान के कंधे पर बन्दूक रखकर स्वयं चला रहे हैं। दिखावे में तो सामने चेहरा पाकिस्तान का है। परन्तु, परदे के पीछे चीन और अमेरिका का पूरा समीकरण है। इसलिए चीन अमेरिका और रूस की तिकड़ी के मध्य फंसे हुए भारत को बड़ी ही बुद्धिजीविता के साथ कार्य करने की आवश्यकता है। क्योंकि, यह राष्ट्रीय स्तर की तिकड़ी उभरते हुए भारत को उलझा करके कमज़ोर करना चाहती है।

विचारक ।
सज्जाद हैदर

matruadmin

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

चुनोती

Thu Feb 21 , 2019
जीवन एक चुनोती है इसे समझ लो खूब जिसने इसको अपना लिया सफलता इसके मूल मंजिल इसी से मिलती है इसी से बनती राहे जो इस पर चलता गया विजय मिली बाह फैलाये पर लक्ष्य मिलने पर जो ठहर जाता है भाग्य भी उसका नही रहता है लेकिन कर्म जिसके […]

पसंदीदा साहित्य

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।