चालीस पार

0 0
Read Time2 Minute, 25 Second
aasha amit nashine
उम्र; चालीस पार कर चुकी है,
पुनः एक बड़े अंतराल के बाद,
गहरी नींद में  सोई ख़्वाहिशें ,
करवटें लेने लगीं हैं……
फिर इक बार उम्र  लौट  रही,
छूटी राहें ,अधूरे सपने,छटपटाते,
अन्तर्मन  व्याकुल  बहुत  ही,
खुली हवा में सांस लेना चाहता….
कोशिशें  प्रबल हो रही मेरे द्वारा,
खुद को समझने ,समझाने की,
आइना भी बड़ी बेजार शक्ल में ,
झुर्रियों ,काले घेरों को घूर रहा….
परिपक्व हूँ; ऐसा सभी कहते,
पर बालमन ,जो दृग रहे भिगोता,
अंतस में कभी जागता कभी सोता,
अल्हड़पन सवार  हो रहा ……
दस्तक देता अचानक अतिथि सा प्यार,
मरूस्थल में बहार की तरह आकर,
आँखों को कुछ पल  सुकून देता,
पर हृदय; आज भी रिक्त ही रहा……
रिश्तों की रेलमपेल में इम्तिहान देती,
क्यों आज भी मैं तन्हा रह गई,
विचलित कर रहा इक सवाल ,
क्या पाया मैंनें इतने साल?……
समझौते को खुशियों का नाम दिया,
अपनी इच्छा को नज़रअंदाज कर,
कई भोर हुईं और कईं रातें गुजरी,
इक टीस साँसों के साथ बढ़ती गई ….
क्यों किया अन्याय खुद के साथ ?
क्यों भूल गई मुस्कुराना दिल से,हर बार ?
कड़वे अनुभव, कसैले व्यवहार के बीच,
विवश थी,निभाये हमेशा रस्म रिवाज़ ….
भूल गई अपनी पहचान अपना नाम,
अपना वजूद ,अपना ख्वाब ,दे दिया दान,
क्या बचा मेरा मुझमें,जो है;सब थोपा हुआ,
करती  खुद से यही सवाल,आँखें हुईँ लाल…..
तभी आवाज आई..,”दरवाजा खोलो”,
“और वो मेज पर मोबाइल है लेकर आओ”,
“टिफ़िन और कार की चाबी दो”, “देर हो रही”,
फिर बन गई फिरकी भूल कर जज़्बात..
उम्र; चालीस पार कर चुकी हूँ ;और ,
दोहरी जिंदगी की आदत सी हो गई।।
#आशा_अमित_नशीने
 
परिचय-आशा अमित नशीने 
W/o अमित नशीने 
शिक्षा-बी.  एस. सी.
          एम. ए.(इंगलिश)
           पी. जी. डी. सी. ए.
पता-राजनांदगाँव (छत्तीसगढ़)

matruadmin

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

धनतेरस

Fri Nov 16 , 2018
धनतेरस है सामने,महँगाई की मार। भूखे पडे गरीब है,करिये भव से पार।। धनवानों मत फेंकिये,दे देना उपहार। कुछ पैसे से हो सके,निर्धन का त्योहार।। चाँदी उसकी है यहाँ,पैसा जिसके पास। चुटकी बजते हो सदा,सारे मन की आस।। धनतेरस पे दीजिए,निर्धन को कुछ दान। सपना देखा रात को,पूर्ण करे अरमान।। धनतेरस […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।