खुला ख़त तमाम शोहदों के नाम

0 0
Read Time5 Minute, 16 Second

sumit shan

नमस्कार,
समझ नहीं आता कि,कैसे और कहाँ से शुरु करुं, आखिरकार आप लोगों की करस्तानियाँ ही कुछ ऐसी हैं। आप कॉलेजों के बाहर,गलियों के मुहानों तथा नुक्कड़ों पर मिलने वाली वही महान विभूतियाँ हैं,जो लड़कियों का जीना हराम कर देते हैं।
यूँ ही आवारागर्दी करते-करते आप को कोई भोली-भाली लड़की पसंद आ जाती है। कुछ दिनों तक आप उसे राह चलते देख देख कर आँख सेकते हैं (आपकी भाषा में),फिर उसका नाम पता करते हैं। अब आप उस लड़की से न जाने किस सस्ते टाइप का प्यार करने लगते हैं, जिसके मूल में देहाकर्षण ही होता है,परंतु आप इसे सच्चे प्यार का नाम देते हैं। अब आप उसे पाने के लिए जमीन-आसमान एक करने लगते हैं। अपने दोस्तों वगैरह से बताते फिरते हैं,सिवाय उस लड़की को बताने के।
एक दिन वो भी आता है कि,आप अपने दोस्तों की बात मान लेते हैं और बहुत हिम्मत करके अपना हाल-ए- दिल उस लड़की को बता देते हैं,परंतु यह क्या …………? वो लड़की आपसे प्यार करने से इन्कार कर देती है।
अब आपके अहंकार को ठेस पंहुचती है,आप सोचते हैं कि,उस लड़की की इतनी हिम्मत कैसे हुई, उसने आपको ना बोल दिया?आखिर उसने इंकार किया भी तो कैसे ?
आप सोचें भी क्यों नहीं, आखिर में आप तो उस लड़की को अपने बाप की जागीर समझते हैं कि, आपको वो पसन्द आई तो वो आपकी बात माने ही माने। आप तो उसे बाजार में मिलने वाली कोई वास्तु समझते हैं कि,अगर माल पसन्द आया तो बस दाम चुकता किया और लेकर चल दिए..मगर अफ़सोस, इस बार तो आपको कोई ऐसा पसन्द आ गया है जो किसी बाजार में मिलता ही नहीं, तो आपको कैसे मिले ?
अब आपको बहुत गुस्सा आता है और आपके शैतानी दिमाग में यह विचार आता है कि,जब वो लड़की आपकी न हुई तो आप उसे किसी और का भी नहीं होने देंगे। यहीं पर एक गंभीर किस्म की आपराधिक भावना आपके मन मंदिर में जन्म ले लेती है,और आप तेजाब द्वारा उस लड़की के तन और उससे भी अधिक सुन्दर मन को जला देने की योजना बना डालते हैं, या फिर किसी अन्य आपराधिक विधि द्वारा उस लड़की पर हमला करके उसके गुरुर को तोड़ने का प्रयत्न करना चाहते हैं,जबकि हकीकत तो कुछ और ही होती है।
ये गुरुर उस कोमल हृदया के मन में न होकर आपके हृदय में होता है,जिसका साक्षात् प्रमाण आपके उसे आघात पँहुचाने के विचार ही हैं।
चलिए, एक बार आप उस लड़की के स्थान पर अपनी बहन को रखकर सोचिये या फिर कल्पना कीजिए कि, अगर कभी ऐसा हो कि,आप ही वो लड़की हैं और कोई अंजान-सा आवारा लड़का आकर आपसे प्रणय निवेदन करे और जबरन ही आपसे प्रेम का रिश्ता बनाने को कहे तो आपको कैसा महसूस होगा,क्या आप उस लड़के की बात मान लेंगे ?
नहीं न,सोचिए…जब आप नहीं मान सकते तो और कोई कैसे मानेगा ?
नफरत तो होगी ही न ऐसे लोगों से। बस यही भावना उस लड़की के मन में भी आ जाती है,जब आप उसके साथ जबरदस्ती प्यार का बर्ताव करते हैं।
चलिए,उठिए,अपने इस झूठे प्रेम की बावड़ी से बाहर निकलिए। अपनी वासना और जिद को अपने मन मंदिर से निकाल के दूर फेंकिए और अपने समय और शक्ति का सदुपयोग करके अपने आपको ऐसी शख्शियत बनाइए कि,जो लड़की आज आपको अस्वीकार कर गई है,वो कल अपने फैसले पर पछताए,यानी आपको पाने का सपना देखे। ऐसा हुआ तो, आपको लोगों के सामने शर्म से सिर नहीं झुकाना पड़ेगा,और लोग आपकी नजीर देंगें।
उम्मीद है कि,आगे से आप झूठे प्रेम के लिए किसी लड़की को डराएंगे नहीं,उनके पंख को कतरा नहीं जाएगा और उन्हें उन्मुक्त गगन में स्वच्छंद विचरण करने दिया जाएगा। तभी सही मायनों में महिला को बराबरी और सम्मान की सार्थकता जाहिर होगी।

   #सुमित कुमार सोनी ‘शान’

परिचय : 1995 में जन्मे हैं और विद्यार्थी हैं। आपने परास्नातक (रसायन शास्त्र) की शिक्षा प्राप्त की है। उत्तर प्रदेश के ग्राम चन्दवक( जिला जौनपुर) में रहते हैं।आप लेखन विधा में शौक से कार्यरत हैं।

matruadmin

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

बदलते रंग

Thu Mar 16 , 2017
हमारे रामभरोसे, होली के रंगों से इस कदर घबराते हैं जिस तरह, कोई नई-नवेली दुल्हन चौखट पार करने में पल-पल हिचकिचाती है, या नया-नया नेता आश्वासन देने में अटक-अटक जाता है। हमने भी मन में ठान ली, थोडी़ भंग छान ली.. उनके यहां जा पहुंचे, हाँथों में रंग देख.. उनके […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।