पिया परदेशी,सखी कैसे खेरुं होरी

0 0
Read Time3 Minute, 45 Second

mitra

होरी की खुमारी में मैं डूब रही सखी,
बोल न कैसे मनाऊँ अबके होरी….?
रंग ले आऊँ जाय के हाट से,चल मोरे संग..।लाल रंग लगवाऊँ के,पीरा… हरा रंग चपखीला..के गुलाबी नसीला!
ऐ सखी बोल न….कुछ तो बोल…??
प्रीत की ये पहरी होरी है रे!
मन बौराया है,सुध-बुध हार बैठी हूँ…।पर सुन न..लाल रंग जो उनसे लगवाऊँ तो दिखबे न करी..उनके प्रीत का लाल रंग बहुत चटख है रे। देख कैसे लाज से गाल गुलाबी हुए जाए मोरे….। उईईईईई माँ,गाल का गुलाबी रंग तो,गुलाल के मात दे रहा रे….,!!!!चल तो चटखीला हरा ही ले लूँ,पर सइय्या से यही रंग लगवाऊँ… पर सखी लागे है एहो रंग न चढ़ी हम पर…।
उनके प्रेम के सावन में भीगो मोरा मन बारहों मास हरा-भरा रहे हैं…अब तो जे होरी को हरो रंग भी आपन चटखपन न दिखा पावेगा।
पीरा ही ले लूँ फेर….? अरी कुछ तो बोल…अबके बंसत मोरे,सजन मोहे बसंती बना गए….ध्यान करते ही तन मन सब बसंती….रहे देती हूँ पीरा रंग फीका पड़ जाएगा…
सखी खीजकर कर बोली-तू हमका कछु न बोले देत है ना….बतावे देत है…ऐसी बाबरी हुई है..खुद ही सब पूछे..खुद ही बतलावे..तू रंग न खरीद…अपने सजन के हर रंग में तू रंगी है…मेरा बखत न बरबाद कर…मोहे जाने दे…माई के साथ गुझिया बनवावे का है हमें…बोलकर सखी भी भाग गई।
अरी सुन तो…..! अच्छा तू बतला दे….ऐसे मोहे बिपदा में अकेली छोड़ ना जा….अरी ओ….सुन ना….!!! येहो भाग गई,अब का से कहूँ अपने जिया की…? मैं रंग देख मतवारी हो रही…हर रंग मोहे पिया के याद दिराए…. बस मन में ही सपने संजोए हूँ… जो अबके होती संग तोहारे….रंग से ना भागती.. तोहारे रंग में रंग जाती….तोहारी प्रेम की फुहार मा तुम संग लिपट भीग जाती…तुम रंगरेज मोरे….सब रंग में रंग…सतरंगी चुनरिया-सी लहराती….इतराती… बल खाती….।
मोहे होरी के रंग अब ना भाए री….!
बस पिया रंग रंगी मैं तो बस उन्हीं के रंग रंगी….।
होरी कैसे खेरुं…कैसे बताऊँ जिया की तड़प…एक तो पिया परदेश..ना रंग लगे…ना अंग लगे…
तू जा अपनी माई के पास रे…। सच ही तो कह रही…मैं तोहरा बखत बरबाद कर रही…।

                                                                                     #लिली मित्रा

परिचय : इलाहाबाद विश्वविद्यालय से स्नातकोत्तर करने वाली श्रीमती लिली मित्रा हिन्दी भाषा के प्रति स्वाभाविक आकर्षण रखती हैं। इसी वजह से इन्हें ब्लॉगिंग करने की प्रेरणा मिली है। इनके अनुसार भावनाओं की अभिव्यक्ति साहित्य एवं नृत्य के माध्यम से करने का यह आरंभिक सिलसिला है। इनकी रुचि नृत्य,लेखन बेकिंग और साहित्य पाठन विधा में भी है। कुछ माह पहले ही लेखन शुरू करने वाली श्रीमती मित्रा गृहिणि होकर बस शौक से लिखती हैं ,न कि पेशेवर लेखक हैं। 

 

 

matruadmin

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

खेलेंगें आज तो हम संग तेरे होली

Thu Mar 16 , 2017
मत रुठ आज मुझसे मेरे हमजोली, खेलेंगे आज तो हम संग तेरे होली। आई है फिर ये रुत बड़ी ही सुहानी, न करना मेरी बातों से आनाकानी। आजा मेरी जां कहीं ये रैना न बीते, खेलेंगे आज तो हम संग तेरे होली। कौन-सा रंग मल दूँ तुझे जरा ये बता, […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।