रिश्तों के एक शहर को,बसाने की बात कर, रुठे  हुए  दिलों  को, मनाने  की  बात कर। हाथों में हाथ ले  के,बढ़ना ओ साथी मेरे, भारत की अस्मिता को,बचाने की बात कर। बढ़कर  के  जिंदगी में,जिंदादिली के साथ, आपस के बैर अब तो,भुलाने की बात कर। भारत का शौर्य सोया,रिपु वंश […]

शिव की कृपा अपार…महीना सावन का। खुले मोक्ष का द्वार…महीना सावन  का॥ सजे शिवालय शोभित शशिधर…, भस्म रमी, मृग चर्म अंग पर…..। शीश गंग की धार…महीना सावन का॥ शिव की कृपा अपार…महीना सावन का। खुले मोक्ष का द्वार…महीना…॥ भांग धतूरा अक्षत चंदन…, बेलपत्र को करिके अर्पन…। माला पुष्प मदार…महीना सावन […]

निज तप से शिव को प्रसन्न कर शिवलिंग ले लंकेश चला। हरि प्रेरित माया से लिंग रख रावण दिशा निवेश चला॥ लघुशंका से हो निवृत्त जब लिंग लगा उठाने वह। सारी शक्ति लगा दी लेकिन किंचित भी न लिंग टला॥ कहलाई वह भूमि देवधर सती हृदय की राशी का। मनोकामना […]

एक हवा-सी चली है एक विशेष वर्ग को भड़काकर उनके हिमायती नेता बनने के चक्कर में ब्राम्हणों को विदेशी आक्रांता बताते हुए बुरा बोलने की। ब्राम्हणों को विदेशी बताने वाले स्वघोषित मूल निवासियों की मानसिक दशा देखकर यही प्रतीत होता है कि वे अपने मूल को भूल चुके हैं। स्पष्ट […]

अमरनाथ में शिव भक्तों पर कहर तोड़ने वालों। धर्म  आस्था  में हिंसा  का जहर  घोलने वालों। कायर हो तुम श्वान वंश के लानत तेरी हरकत पर। कायरता  भी  शर्मसार  है  तेरी  गंदी फितरत  पर। शिवभक्तों का लहू पुकारे अब तो जागो मोदी जी। निंदा नहीं मिसाइल अपनी अब तो दागो […]

बहुत दुर्भाग्यपूर्ण स्थिति है हमारे देश के सभी प्रांतों में पुलिस की। हमारे यहां पुलिस वालों को नेताओं ने अपने स्वार्थ साधने का साधन बना लिया है। मामला चाहे कोई भी हो,प्रशासन वही करता है जिसमें नेताजी का हित निहित हित हो। अन्यथा की स्थिति में पुलिस वाले को इन […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।