तेरे साथ गुज़ारे लम्हात, मेरी क़ीमती जागीर है । तेरे मुस्कुराकर देख़ना ही, मेरे ख़्वाबों की ताबीर है ।। तेरे बिन अधूरा सा हूं , निकलता हूं सफ़र पर, पहली ख़ुशी ज़िंदगी की, धड़कनों में मेरी धड़के, दिल से खेलने में मेरे, मेरे इश्क को मत परख़, Post Views: 28

तेरी आंखों में प्यार की कहानी नज़र आती है । रहबर मेरी ज़िंदगी तेरे पहलू में चैन पाती है ।। सरगम सी बजती है कानों में मेरे ।।। पनघट पर जब तू अपनी पायल खनकाती है ।।।। तेरा ग़म तो मेरी ज़िंदगी का हिस्सा है । मेरे हिस्से से भी […]

इंदौर । हिंदी और उर्दू के बेहतरीन संगम और चुनिंदा नज़्मों को इंदौर के लेखक डॉ.वासीफ काज़ी ने पुस्तक ‘कशिश’ के रूप में सृजन किया,संस्मय प्रकाशन द्वारा प्रकाशित पुस्तक कशिश का विमोचन मंगलवार को इंदौर एबी रोड़ स्थित डीक्यू कैफे में साहित्यकारों के बीच होना है ।      कवि […]

बहारें इंतज़ार करती,ग़ुलों के खिलखिलाने का । हमें भी इंतज़ार है अब, तुम्हारे मुस्कुराने का ।। तुम्हारे नाम है मेरी ये सारी ज़िंदगानी ।।। हमें तो शौक है तेरी, बांहों में बिखर जाने का ।।।। मेरा दिल तो हरदम यूं, तुम्हारा नाम लेता है । चाहत की हसीं राहों पर, […]

दिल से जुदा नहीं हो तुम, मेरे ज़ेहन में तेरी यादें हैं । अधूरी हैं रस्में मोहब्बत की, पतझड़ से ये तेरे वादे हैं ।। हर सांस मुझे तेरा इंतज़ार है, सच कहूं मुझे तुझसे प्यार है ।। अहसास ए इश्क सुखन देता है, विसाल ए यार तो चुभन देता […]

रांझणा तेरी तड़प, तेरे जज़्बात, हीर के बेचैन हैं ख़्यालात । मिसालें ताउम्र रहेंगी रोशन, कम न होंगे मोहब्बत के असरात ।। अकेला होकर भी अकेला नहीं हूं , मेरे पास तेरी यादों का ज़खीरा है । अधूरा होकर भी अधूरा नहीं हूं, तेरे अहसास से इश्क़ मेरा पूरा है […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।