क्यों ?(लघु कथा )

0 0
Read Time2 Minute, 42 Second

viyanand
अमन और फारूख दोस्त थे। दोनों अलग-अलग सरकारी विभागों में अफसर थे। उनके ऑफिस एक ही बिल्डिंग में अलग-अलग फ्लोर पर थे,पर लंच के समय कैंटीन में रोज मिलते और परस्पर भाभियों के बनाए खाने की तारीफ करते हुए चटखारे ले-लेकर एक-दूसरे का लंच शेयर करते थे।
आज जब दोनों का टिफिन खुला तो अमन बिना कुछ बोले चुपचाप खाने लगा। उसे शांत,परेशान और गंभीर मुद्रा में देख फारुख से नहीं रहा गया- ‘क्यों यार! बड़े चुप-चुप हो,क्या बात है?’
‘कुछ खास नहीं यार।’ ठंडी साँस भरते हुए अमन ने कहा-‘अब तो लगता है सच्चाई और अच्छाई का जमाना ही नहीं रहा।’
‘आखिर हुआ क्या है? कुछ बताओ तो!’
‘यार,आज एक बंदा लाइसेंस बनवाने के लिए मेरे पास आया। मैंने उससे कहा कि जो-जो डाक्यूमेंट्स मांगे गए हैं,वो लेकर आओ,बन जाएगा। तो वह मुझ पर ही भड़क गया,और कहने लगा कि पहले तो ऐसे ही बन जाता था। रिश्वत में ज्यादा पैसों के लिए मैं इस तरह नियम-कायदों की बात कर रहा हूँ। उसने सीधे-सीधे मुझे रिश्वतखोर बना दिया,यार…! बड़ा अजीब है…मुश्किल है…ईमानदारी से जीना।’ अमन ने अपनी पूरी व्यथा व्यक्त कर दी।
‘जानते हो अमन! हमारी सबसे बड़ी प्राब्लम क्या है? वो ये कि…हम समय से ऑफिस आते हैं…पूरी निष्ठा से अपने कर्त्तव्य का निर्वाह करते हैं…ईमानदार हैं….रिश्वत नहीं लेते हैं। दरअसल,हमारा अच्छा होना ही आज के जमाने में लोगों के लिए सबसे बड़ी खराबी है। वो क्या है न,कि उनकी प्राब्लम ये है कि इस भ्रष्ट जमाने में भी खराब,भ्रष्ट और बेईमान न होकर हम इतने अच्छे,सच्चे और ईमानदार क्यों हैं?’
फारूख ने अमन को आज की सोच व मानसिकता समझाने की कोशिश की। अमन भी अब इस विषय पर कुछ सोचने लगा था।
—–
 #विजयानंद विजय

परिचय : विजयानंद विजय की अभिरुचि स्वतंत्र लेखन में है।आपका निवास बक्सर (बिहार) में है और
संप्रति अध्यापन (राजकीय सेवा)की है।

matruadmin

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

साहित्य के उन्नयन में गालियां

Thu Feb 23 , 2017
लोग गालियां भूल न जाएं,इसलिए कुछ लेखक अपनी रचनाओं में जी खोलकर गालियों को भरपूर इस्तेमाल करते हैं। अगर गालीमार्का लेखक नहीं होते तो बेचारी गालियों का क्या होता? लोग धीरे-धीरे भूल न जाते? जब साहित्य में गालियां थोक के भाव में आएँगी तो अज्ञानी पाठक भी यही सोचेगा कि […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।