हिंदी साहित्य के विलक्षण कवि रघुवीर सहाय

0 0
Read Time6 Minute, 18 Second
rajesh sharma
(संदर्भ-9 दिसम्बर जन्म दिवस)
दूसरे सप्तक के कवियों में प्रमुख नाम रघुवीर सहाय का आता है। हिंदी के विलक्षण कवि,लेखक,पत्रकार, सम्पादक,अनुवाक,कथाकार,आलोचक रघुवीर सहाय का जन्म ९ दिसम्बर १९२९ को लखनऊ(उत्तर प्रदेश) में हुआ था। इन्होंने १९५१ में अंगेजी साहित्य में स्नातकोत्तर किया। १९६४ से साहित्य सृजन करना प्रारंभ किया। इनका विवाह १९५५ में विमलेश्वरी सहाय से हुआ।
इनकी प्रमुख कृतियाँ-‘सीढ़ियों पर धूप में’,’आत्म हत्या के विरुद्ध’,’हँसो हँसो जल्दी हँसो’,’लोग भूल गए हैं’,’कुछ पते कुछ चिट्ठियां’ और ‘एक समय था’ जैसे कुल छह काव्य संग्रह हैं। ‘रास्ता इधर से है'(कहानी संग्रह),’दिल्ली मेरा परदेश’ और ‘लिखने का कारण'(निबन्ध संग्रह) उनकी प्रमुख कृतियाँ हैं।
रघुवीर सहाय हिंदी के साहित्यकार के साथ साथ एक अच्छे पत्रकार थे,उन्होंने पत्रकारिता की शुरुआत लखनऊ से प्रकाशित दैनिक नवजीवन में १९४९ से की। आप उप-संपादक और सांस्कृतिक संवाददाता रहे,उसके बाद १९५१-५२ तक दिल्ली में ‘प्रतीक’ के सहायक सम्पादक रहे। फिर ५३-५७ तक आकाशवाणी के समाचार विभाग में उप-संपादक भी रहे।
                     रघुवीर सहाय की ‘बारह हंगरी कहानियां’ राख और हीरे शीर्षक से हिंदी भाषान्तर भी समय समय और प्रकाशित हुए। उनकी कविताओं के भाषा और शिल्प  में पत्रकारिता का तेवर दृष्टिगत होता है। तीस वर्ष तक हिंदी साहित्य में अपनी कविताओं के लिए रघुवीर सहाय शीर्ष पर रहे। समकालीन हिंदी कविता के महत्वपूर्ण स्तम्भ रघुवीर सहाय ने अपनी कविताओं में १९६० के बाद की हमारी देश की तस्वीर को समग्रता से प्रस्तुत करने का काम किया। उनकी कविताओं में नए मानवीय सम्बन्धों की खोज देखी जा सकती है। वे चाहते थे कि,  समाज में अन्याय और गुलामी न हो तथा ऐसी जनतांत्रिक व्यवस्था निर्मित हो, जिसमें शोषण,अन्याय, हत्या,आत्महत्या,विषमता, दास्तां,राजनीतिक संप्रभुता, जाति-धर्म में बंटे समाज के लिए कोई जगह न हो।
      वे चाहते थे कि,आजादी की लड़ाई जिन आशाओं और सपनों से लड़ी गई है,  उन्हें साकार करने में यदि बाधाएं आती है तो उनका विरोध करना चाहिए।
                १९८४ में रघुवीर सहाय को कविता संग्रह (लोग भूल गए हैं) के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। उनकी कविताओं में आम आदमी को हाशिए पर धकेलने की व्यथा साफ दिखाई देती है। उनकी कविता की कुछ पंक्तियां देखिए-
      जितनी बूंदें
      उतने जो के दाने होंगे
      इस आशा में चुपचाप गांव यह भीग रहा है।
१९८२-९० तक इन्होंने स्वतन्त्र लेखन किया। ‘वे तमाम संघर्ष जो मैंने नहीं किए,अपना हिसाब मांगने चले आते हैं’,ऐसी पंक्तियां रचने वाले रघुवीर सहाय जन मानस में एक दीर्घजीवी कवि थे जिनकी कविताएं स्वतन्त्र भारत के निम्न मध्यमवर्गीय लोगों की पीड़ा को दर्शाती है। नई कविता के दौर में रघुवीर सहाय का नाम एक बड़े कद के कवि के रूप में स्थापित हुआ था। १९५३ में रघुवीर सहाय एक छोटी-सी कविता लिखते हैं-
   ‘वही आदर्श मौसम
   और मन में कुछ टूटता-सा
   अनुभव से जानता हूं कि यह बसन्त है।’
रघुवीर सहाय की अधिकांश कविताएं विचारात्मक और गद्यात्मक हैं। वे कहते थे ‘कविता तभी होती है जब विषय से दूर यथार्थ के निकट होती है’। रघुवीर सहाय भाषा सृजक रहे हैं। उनकी भाषा बोल-चाल की भाषा है। आदमी की भाषा में छिपे आवेश को बनाने का प्रयास रघुवीर सहाय करते थे। भारत में आदमी की समस्याओं और विरोधी व्यवस्था में राजनीति तथा जीवन के परस्पर सम्बन्ध को बचाए रखने का प्रयास उनकी कविताओं में दिखाई देता है। इस श्रेष्ठ कवि क़ो जन्मदिन पर सादर नमन।
#राजेश कुमार शर्मा ‘पुरोहित’
परिचय: राजेश कुमार शर्मा ‘पुरोहित’ की जन्मतिथि-५ अगस्त १९७० तथा जन्म स्थान-ओसाव(जिला झालावाड़) है। आप राज्य राजस्थान के भवानीमंडी शहर में रहते हैं। हिन्दी में स्नातकोत्तर किया है और पेशे से शिक्षक(सूलिया)हैं। विधा-गद्य व पद्य दोनों ही है। प्रकाशन में काव्य संकलन आपके नाम है तो,करीब ५० से अधिक साहित्यिक संस्थाओं द्वारा आपको सम्मानित किया जा चुका है। अन्य उपलब्धियों में नशा मुक्ति,जीवदया, पशु कल्याण पखवाड़ों का आयोजन, शाकाहार का प्रचार करने के साथ ही सैकड़ों लोगों को नशामुक्त किया है। आपकी कलम का उद्देश्य-देशसेवा,समाज सुधार तथा सरकारी योजनाओं का प्रचार करना है।

matruadmin

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

जख्म

Sat Dec 9 , 2017
चले हैं तेरे शहर से ज़ख्म ले के हरे, नहीं मिलेंगे दोस्त हमसे जुदा होने के बाद। हर पतझड़ के बाद बहारें आती ही हैं, नहीं आएगी रिफ़ाक़तें शब-सवेरे  के बाद। मैं खामोश हूं एक अरसे से इस कशमकश में, कि आँखों में उनकी भी इल्तजा झलके शिद्दत के बाद। […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।