सत्य प्रेम

Read Time4Seconds
vasundhara
विचित्र विडंबना…
कौमार्य को तुमने
शरीर तक सीमित
कर दिया,
कर दिया सीमित
अखिल प्रेम..
जो हो सकता था,
मेरा प्रेम
तुम्हारे लिए।
जो सिंदूरी
हो सकता था,
तुम देखो
भीतर मन
प्यासा-सा रह गया।
भ्रमित-सा,
मन का
क्षितिज रह गया,
शरीर की परिधि
तक न स्वीकार करो…
समझो तो
ढाई अक्षर प्यार को,
कठिन जीवन काल में
जीत गूंजेगी
जब झंकार में,
तन नहीं मन दिखेगा
प्रसार में।
वक्ष में लिपटी मीठी ममता,
सबके लिए महत्व में
सबको लेकर चलती…
प्रकृति-सा,
स्वभाव दिखता
स्त्रीत्व में..
छल-कपट से परे।
प्रेम का नहीं होता
शरीर से क्रय-विक्रय,
सत्य प्रेम का बस
अनोखा-सा,
यही है परिचय….॥

                                           #वसुंधरा राय

परिचय : वसुंधरा राय ने समाजशास्त्र  में एम.ए. और पत्रकारिता मास्टर डिप्लोमा (मुम्बई ) की शिक्षा हासिल की है l आपका बसेरा  महाराष्ट्र के नागपुर में क्लार्क टाऊन(कड़वी चौक के पास) में है l २००८ में राष्ट्रीय हिन्दी पत्रिका में रूपक लेखक का कार्य अनुभव है,और वर्तमान में अनेक पत्र-पत्रिकाओं में लेखन जारी हैl आप छंदमुक्त कविता,लघुकथा,दोहा छंद,आध्यात्मिक, राजनीतिक,सामाजिक विषयों पर लेखने के साथ ही वर्तमान में सामाजिक सेवाओं में भी संलग्न हैं l विश्वनाथ राय बहुउद्देशीय संस्था `शब्द सुगंध` की संस्थापक व अध्यक्ष हैं तो,अॉल इंडिया रेडियो पर विषय वक्ता के साथ ही मंच संचालिका भी हैं l आपकी लघुकथाओं की दो पुस्तक २०१७ में प्रकाशित होने वाली हैं। आपको सम्मान के रूप में अर्णव काव्य रत्न अलंकार,व्रत प्रतिष्ठान सम्मान,हाइकु मंजूषा रत्न सम्मान सहित राज्य स्तरीय हाइकु सम्मान तथा साहित्यिक सृजन सम्मान भी मिला है l हाइकु विशेषांक,मेरी सांसें तेरा जीवन,हाइकु संग्रह आदि साझा प्रकाशित पुस्तकें हैंl मंच पर कविता पाठ और गायन भी आप करती हैं। 

0 0

matruadmin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

दिखा दो सवेरा

Tue Nov 7 , 2017
हे ईश्वर ये किस जगह पर हूँ मैं, मैं स्वयं को ही खोज नहीं पाता… मद्धिम-मद्धिम है ये सांसें अब तो, स्वयं मैं कुछ भी सोच नहीं पाताl            उसकी स्मृति में ही अब हर क्षण है, पृष्ठों में मात्र वो ही नजर आता…            लिखना तो एक ढेर चाहता […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।