कश्मीर की पत्थरबाजी..

0 0
Read Time1 Minute, 22 Second

deenesh prajapat

शर्म न आती तुमको, सेना पर पत्थर बरसाते हो।
जिस थाली में खाते छेद,उस में ही कर जाते हो।।

भारत माँ के आँचल में,दुःख जब-जब भी सोता है।
जब-जब जुल्म लाल पे होता,माँ का भी दिल रोता है।।

कहते हो कश्मीर हमारा,फिर कैसी लाचारी है।
मैं सैनिक हूँ भारत माँ का,मुझमें तो खुद्दारी है।।

सोई है सरकार यहाँ तो,दिल्ली के गलियारों में।
होते हैं सैनिक शहीद पर,दीपक के उजियारों में।।

जब जागेगा लाल यहां तो,माँ पत्थर बरसाएगी।
पत्थर से कैसे बचना है,ये भी तुझे सिखाएगी।
(तांटक छन्द)

                                                                    #दिनेश कुमार प्रजापत

परिचय : दिनेश कुमार प्रजापत, दौसा जिले(राजस्थान)के सिकन्दरा में रहते हैं।१९९५ में आपका जन्म हुआ है और बीएससी की शिक्षा प्राप्त की है।अध्यापक का कार्य करते हुए समाज में मंच संचालन भी करते हैं।कविताएं रचना,हास्य लिखना और समाजसेवा करने में आपकी विशेष रुचि है। आप कई सामाजिक संस्थाओं से भी जुड़े हुए हैं।

matruadmin

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

Older person school study paper samples. Assess essay. APA style

Wed Apr 26 , 2017
Older person school study paper samples. Assess essay. APA style When you’re composing a governmental scientific discipline or biology or economical elements research document, writing is merely 50% the project. Before beginning together with your task, you need to check the subject to track down applicable info about the subject […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।