सरकारी योजनाओं की बुलंद आवाज हैं कवि सुनील चौरसिया ‘सावन’ की कविताएं

Read Time13Seconds

देश के बहुचर्चित युवाकवि श्री सुनील चौरसिया ‘सावन’ की कविताएं जन-मन की कविताएं होती हैं। आपकी कविताओं में सिर्फ आम आदमी के मन की ही आवाज नहीं होती है अपितु सरकारी योजनाओं के दिलों की धड़कन भी होती है। आप देश की सोचनीय समस्या कुपोषण को सरकार तक कुछ इस तरह से पहुंचाने की कोशिश करते हैं-

होता रहेगा कब तक, मानवता का शोषण।
भूख से मरी गर्भवती, मार डाला कुपोषण।।

कन्या भ्रूणहत्या एक गंभीर समस्या है जिससे निपटने के लिए सरकार अनेक योजनाएं ( लाडली लक्ष्मी योजना, धनलक्ष्मी योजना , मुख्यमंत्री शुभ लक्ष्मी योजना, बेटी है अनमोल योजना, गर्ल प्रोटेक्शन स्कीम इत्यादि )चलाती है। सरकारी आवाज को कवि ‘सावन’ देश के प्रत्येक नागरिक तक कविताओं के माध्यम से पहुंचाते हैं; जैसे-

किस गलती की सजा देते हो, गर्भ में बेटियों को मार कर।
क्यों करते हो कलंकित मानवता को, इन्हें मौत के घाट उतार कर।।

पहले भटकती हुई दुनिया के समक्ष विचारात्मक प्रश्न प्रेषित करते हैं फिर बेटियों का गुणगान करते हैं-

बेटों से कम नहीं हैं आदिकाल से बेटियां।
बेटों से कम नहीं हैं आजकल की बेटियां।
जो नभ में उड़ान भरते हुए रचती हैं रोटियां।
जग को जगमगाने वाली ज्योति हैं बेटियां।
सागर की सीपी में छिपी मोती हैं बेटियां।
जन्नत बना कर दिखाती हैं, उजड़े घर को संवारकर।
किस गलती की सजा देते हो, गर्भ में बेटियों को मारकर……

वृक्षारोपण को लेकर हमारी सरकार अनेक योजनाएं (राष्ट्रीय पर्यावरण नीति, राष्ट्रीय जल नीति, पर्यावरण संरक्षण अधिनियम , वन संरक्षण अधिनियम इत्यादि ) चला रही है जिसमें लाखों-करोड़ों की धनराशि खर्च होती है। हम सभी नागरिकों का भी कर्तव्य है कि सरकार के साथ कदम से कदम मिलाकर वृक्षारोपण करें और देश को स्वच्छ, स्वस्थ और सुंदर बनाएं। कवि सुनील चौरसिया ‘सावन’ तो अक्सर कहते हैं कि हमारे प्राण पखेरू पेड़ों में बसते हैं। पेड़ ही हमारी जिंदगी हैं। पेड़- पौधों को आप “ऑक्सीजन की फैक्ट्री” भी कहते हैं। भारतवर्ष को संबोधित करते हुए आप विश्व को बचाने की बात करते हैं-

विश्व को बचाना है तो वृक्ष लगाना सीखो भारत।
बच्चों से प्यारे पौधों को पानी पिलाना सीखो भारत।

पर्यावरण की दुर्दशा को देखकर आप कुछ इस तरह चिंता व्यक्त करते हैं-

सूख रहे हैं आम – कटहल, कट रहे हैं नीमा- पीपल।
रूठ गई हैं धरती मैया, रूठ गये प्यारे बादल।।
सूखा पड़ने से पहले, नयी कहानी लिखो भारत।
विश्व को बचाना है तो वृक्ष लगाना सीखो भारत…..

एक वृक्ष दस पुत्र समाना, वृक्ष लगाओ विश्व बचाओ… जैसे नारों के माध्यम से सरकार सर्वत्र वृक्षारोपण करना चाहती है। हमें भी संतानोत्पत्ति, शादी ,जन्मदिन , सालगिरह …. जैसे शुभ अवसरों पर पौधारोपण अवश्य करना चाहिए। कवि ‘सावन’ कहते हैं-

मंदिर, मस्जिद , विद्यालयों को कर दो हरा-भरा मधुवन सा।
देख हरियाली जेठ दुपहरी बरसे रस रिमझिम सावन सा।।
मत बनो सोने की नगरी, चित्रकूट सा दिखो भारत।
विश्व को बचाना है तो वृक्ष लगाना सीखो भारत।।

ग्राम -अमवा बाजार, पोस्ट- रामकोला, जिला- कुशीनगर, उत्तर प्रदेश के निवासी कवि सुनील चौरसिया ‘सावन’ केंद्रीय विद्यालय टेंगा वैली अरुणाचल प्रदेश में स्नातकोत्तर शिक्षक (हिन्दी) पद पर सेवा प्रदान कर रहे हैं । एक शिक्षक होने के नाते शिक्षा व्यवस्था पर भी लेखनी चलाना लाजमी है।सरकार की तमाम योजनाएं( पढ़े भारत, बढ़े भारत, सर्व शिक्षा अभियान, महिला समाख्या कार्यक्रम इत्यादि) शिक्षा जगत को समर्पित हैं। ‘सब पढ़ें, सब बढ़ें’ और ‘बेटी बचाओ, बेटी पढाओ’ जैसे नारों की खुशबू आप अपनी कविताओं के माध्यम से देश-विदेश में बिखेरते हैं; जैसे-

छोड़ो चूल्हा, चौकी, रोटी।
आओ, पढ़ाई कर लो बेटी।।

घर का बाद में करना काम।
जग में रोशन कर लो नाम।।

विदुषी बन महको ज्यों फूल।
लो बस्ता जाओ स्कूल।।
पढ़ो लिखो छूलो नभ-चोटी।
छोड़ो चूल्हा, चौकी, रोटी।
आओ, पढ़ाई कर लो बेटी।।

कवि ‘सावन’ की कविताओं में समता का भाव दिखता है। आप स्पष्ट शब्दों में कहते हैं कि बेटियां बेटों से किसी भी क्षेत्र में कम नहीं हैं-

नहीं हो तुम बेटों से कम।
शक्ति- स्नेह का हो संगम।।
दम दिखा दो अपना जग में।
पूरा कर लो सपना जग में।।
बड़ी हो तुम, दुनिया है छोटी।

छोड़ो चूल्हा, चौकी, रोटी।
आओ, पढ़ाई कर दो बेटी।।

जल ही जीवन है, लेकिन आज जल का जीवन ही खतरे में है। शुद्ध जल की कमी और जल प्रदूषण एक वैश्विक समस्या है। यदि इस समस्या को लेकर हम सब गंभीर नहीं हुए तो भविष्य में यह विकराल रूप धारण कर सकता है। मानवीकरण अलंकार का प्रयोग करते हुए कवि सुनील चौरसिया ‘सावन’ ने बहुत ही शानदार शब्दों में पानी का दुख-दर्द व्यक्त किया है-

जब खिलखिला कर बहेगी वसुधा पर जलधार।
तब बचेगा तुम्हारा घर, परिवार, संसार ।।
मनस्वी मनुष्यों!
तुम्हारे सामने टपकता हुआ पानी हूं मैं।
पानी नहीं जिंदगानी हूं मैं
तुम्हारे जीवन की मार्मिक कहानी हूं मैं।।

भ्रूण हत्या, नारी शिक्षा, पर्यावरण संरक्षण, जल संरक्षण, कुपोषण इत्यादि समस्याओं को लेकर सरकार सचेत एवं गंभीर है। काश! देश का प्रत्येक नागरिक सरकारी योजनाओं के निर्देशानुसार अपने कर्तव्यों का पालन करता तो देश चांदनी की भांति चमचमा उठता। इसी सपना को साकार करने के लिए कलम चलाते हैं कलमकार श्री सुनील चौरसिया ‘सावन’।

# सुनील चौरसिया ‘सावन’

1 0

matruadmin

Next Post

हिंदी प्रचार का पर्याय मातृभाषा उन्नयन संस्थान

Sun Feb 2 , 2020
भारत की आज़ादी के पहले ही एक क्रांति अपना अस्तित्व तलाश रही थी, उसी के माध्यम से भारतभर में एक सूत्रीय संपर्क स्थापित हो सकता था। संवाद और संपर्क के प्रथम कारक में हिंदी भाषा का अस्तित्व उभर कर आया। दशकों से हिन्दी भाषा के स्वाभिमान, स्थायित्व और जनभाषा के […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।