सौभाग्यवती स्त्रियोँ का पर्व है करवा चौथ

Read Time2Seconds

  • कवि,साहित्यकार हिंदुओं का पवित्र त्योहार करवा चौथ सम्पूर्ण देश मे कार्तिक मास की कृष्ण पक्ष की चतुर्थी को मनाया जाता है। ग्रामीण स्त्रियों से लेकर आधुनिक महिलाओं तक सभी महिलाएं करवा चौथ का व्रत अवश्य करती है। उनमें बड़ी श्र्द्धा व विश्वास उत्साह के साथ सौभाग्यवती स्त्रियां इस पर्व को मनाती हैं। इस पर्व को होई अष्टमी या तीज की तरह ही उल्लास से मनाया जाता है।
    पति की दीर्घायु व अखण्ड सौभाग्य की प्राप्ति के लिए इस दिन भालचन्द्र गणेश जी की अर्चना की जाती है। दिन भर उपवास रखकर रात में चंद्रमा को अर्ध्य देने के बाद ही भोजन का विधान है। अपने परिवार में प्रचलित परम्परा के अनुसार ही करवा चौथ महिलाएं मनाती है।लेकिन निराहार बिना जल ग्रहण किये दिन भर महिलाएं उपवास रखती है। चन्द्रोदय होने पर पूजा करती है। अर्ध्य देती है। फिर आंक में अपने पति का मुखड़ा देखती है। मेरा चाँद मुझे आया है नजर। इस व्रत को करने का अधिकार केवल सौभाग्यवती स्त्रियों को होता है। वे अपने पति की आयु स्वास्थ्य व सौभाग्य की कामना करती है। यह व्रत 12 वर्ष या 16 वर्ष तक लगातार किया जाता है। अवधि पूरी होने के बाद इस व्रत का उपसंहार यानी उद्धापन कर दिया जाता है। जो आजीवन करना चाहती है वे कर सकती है। इस व्रत के समान सौभाग्यदायक व्रत और कोई नहीं है। अतः सुहागिन स्त्रियों को ये व्रत निरन्तर करना चाहिए।
    राजस्थान के चौथ का बरवाड़ा में चोथ माता मन्दिर पर इस दिन खूब भीड़ रहती है चौथ माता मंदिर भीमसिंह चौहान ने बनवाया था।
    इस दिन महिलाएं प्रातः स्नान कर अपने पति की आयु स्वास्थ्य आरोग्य का संकल्प लेकर दिनभर निराहार रहती है । भगवान शिव पार्वती कार्तिकेय गणेश जी की पूजन करती है। पूजन करने के बाद बालू अथवा सफेद मिट्टी की बेदी बनाकर सभी देवों को स्थापित करती है।शुद्ध घी में आटे को सेककर उसमे शक्कर अथवा खांड़ मिलाकर मोदक नैवेद्य हेतु बनाती है।काली मिट्टी में शक्कर की चाशनी मिलाकर उस मिट्टी से तैयार किये गए मिट्टी के करवे या तांबे के करवे 10 या 13 अपनी सामर्थ्य के अनुसार रखती है।करवों में लड्डू रखकर नैवेद्य चढ़ाया जाता है एक लौटा एक वस्त्र व एक विशेष करवा दक्षिणा के रूप में अर्पित कर पूजन का समापन होता है।सायंकाल चन्द्रमा की पूजा व अर्ध्य देते हैं। इसके पश्चात सुहागिन स्त्रियां व पति के माता पिता को भोजन कराएं। भोजन के उपरांत ब्राह्मणों को यथाशक्ति दक्षिणा देने का विधान है।पति की माता को लौटा वस्त्र विशेष करवा भेंट कर बाद में घर के सभी सदस्य भोजन करें।
    इस प्रकार करवा चौथ मनाई जाती है।

#राजेश कुमार शर्मा ‘पुरोहित’

परिचय: राजेश कुमार शर्मा ‘पुरोहित’ की जन्मतिथि-५ अगस्त १९७० तथा जन्म स्थान-ओसाव(जिला झालावाड़) है। आप राज्य राजस्थान के भवानीमंडी शहर में रहते हैं। हिन्दी में स्नातकोत्तर किया है और पेशे से शिक्षक(सूलिया)हैं। विधा-गद्य व पद्य दोनों ही है। प्रकाशन में काव्य संकलन आपके नाम है तो,करीब ५० से अधिक साहित्यिक संस्थाओं द्वारा आपको सम्मानित किया जा चुका है। अन्य उपलब्धियों में नशा मुक्ति,जीवदया, पशु कल्याण पखवाड़ों का आयोजन, शाकाहार का प्रचार करने के साथ ही सैकड़ों लोगों को नशामुक्त किया है। आपकी कलम का उद्देश्य-देशसेवा,समाज सुधार तथा सरकारी योजनाओं का प्रचार करना है।

0 0

matruadmin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

डॉ. अब्दुल कलाम का जीवन और प्रेरक बात

Tue Oct 15 , 2019
भारत रत्न डॉ.एपीजे अब्दुल कलाम जयंती (विश्व विद्यार्थी दिवस )* पर विशेष 15 अक्टूबर के दिन को ‘विश्व विद्यार्थी दिवस’ (World Student’s Day) मनाया जाता है। ।यह दिवस भारत के पूर्व राष्ट्रपति और मिसाइल मैन के नाम से मशहूर डॉ. ए.पी.जे. अब्दुल कलाम की स्मृति में मनाया जाता है।उनका जन्म […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।