जायके का सफर ‘बाटी’ के साथ

Read Time4Seconds
स्वादिष्ट व्यंजनों का नाम सुनते ही मुँह में पानी आ जाता है ,चाहे पेट भरा हो या खाली हो, ऐसे ही एक सर्वव्यापी व्यंजन का नाम है 'बाटी '। हम सभी इस नाम से परिचित हैं । राजस्थान का 'दाल बाटी चूरमा ' और बिहार का 'बाटी चोखा ' विश्व प्रसिद्ध है।

   बाटी मालवा का प्रसिद्ध भोजन है । यह हर घर की पसंद है। वहाँ के लोग इसे बड़े चाव से खाते हैं । यात्रा के दौरान भी लोग इसे ले जाना पसंद करते हैं। स्वाद में यह जितनी जायकेदार है, इसका इतिहास भी उतना ही रोचक है ।

   बाटी मूलतः राजस्थान का पारंपरिक व्यंजन है । इसका इतिहास तकरीबन 1300 साल पुराना है ।  8 वीं सदी में राजस्थान में बप्पा रावल ने  मेवाड़ राजवंश की स्थापना की थी । बप्पा रावल को मेवाड़ राजवंश का संस्थापक भी कहा जाता है। इस समय राजपूत सरदार अपने राज्यों का विस्तार कर रहे थे । इसके लिए युद्ध भी होते रहते थे । तो इसी समय बाटी बनने की शुरुआत हुई । दरअसल युद्ध के समय हजारों सैनिकों के लिए भोजन का प्रबंध करना चुनौतीपूर्ण कार्य होता था । कई बार तो सैनिक भूखे रह जाते थे ।ऐसे में एक बार एक सैनिक ने रोटी के लिए आटा गूँथा और रोटी बनाने से पहले ही युद्ध की घड़ी आ गयी। तब सैनिक आटे की लोइया रेगिस्तान की तपती रेत में ही छोड़ कर रणभूमि मे चले गये।शाम को जब वे लौटे तो लोइया गर्म रेत में दबी हुई थी, जब उन्हें रेत से  निकाला तो दिन भर सूर्य और रेत की तपिश से वे पक चुकी थी । थककर चूर हो चुके सैनिकों ने उसे खाया तो यह बहुत स्वादिष्ट लगी । इसे पूरी  सेना ने मिल बाँटकर खाया । बस यही से इस का अविष्कार हुआ और नाम मिला 'बाटी'। इसके बाद बाटी युद्ध  के  दौरान  खाया जाने वाला पसंदीदा भोजन बन गया । अब रोज सुबह सैनिक आटे की लोइया रेत में दबाकर चले जाते थे और शाम को लौटकर उन्हें, चटनी, अचार, और रणभूमि में उपलब्ध ऊटनी व बकरी के दूध से बनें दही के साथ खाते । इस भोजन से उन्हें ऊर्जा मिलती और समय की भी बचत होती । इसके बाद ये पकवान पूरे राज्य में मशहूर हो गया और इसे कंडों में बनाया जाने लगा ।

     अकबर की रानी जोधाबाई के साथ 'बाटी ' मुगल साम्राज्य तक भी पहुँच गयी। मुगल खानसामे बाटी को भाप मे उबालकर बनाने लगे तो इसे नया नाम दिया 'बाफला' । इसके बाद ये पकवान पूरे देश में प्रसिद्ध हुआ और आज भी है । अब यह कई तरीकों से बनाया जाता है। दक्षिण के कुछ व्यापारी मेवाड़ में रहने आये तो उन्होंने बाटी को दाल के साथ खाना शुरू किया फिर यही से बाटी का नया रूप प्रसिद्ध हो गया । उस समय पंचमेल दाल  खायी जाती थी। यह पाँच दालें चना, मूँग, उड़द, मसूर  और तुअर को मिलाकर बनाईं जातीं थीं। इसमें सरसों के तेल या घी में तेज मसालों का तड़का दिया जाता था । यह दाल बहुत ही स्वादिष्ट और स्वास्थ्यवर्धक होती है।

 अब बात करते हैं चूरमा की ।यह मीठा पकवान अनजाने में ही बन गया। दरअसल एक बार कुछ बाटियाँ मेवाड़ के गुहिलोत कबीले के खानसामे के हाथ से छूटकर गन्ने के रस में गिर गईं। इससे बाटियाँ मुलायम हो गईं और गन्ने के रस से सराबोर हो गईं जिसमें ये बहुत स्वादिष्ट भी हो गईं । इसके बाद इसे गन्ने के रस में डुबोकर बनाया जाने लगा। इसे और अघिक स्वादिष्ट बनाने के लिए इसमें इलायची व घी भी डालने लगे। बाटी को चूरकर बनाने के कारण इसका नाम 'चूरमा ' पड़ा ।

बिहार के लोग इसमें सत्तू भरकर और भी जायकेदार और स्वास्थ्यवर्द्धक बनाने लगे। अब बाटी का विविध रूपों में विस्तार अधिकतर रसोईं घरों तक हो गया है। सफर के लिए तो यह सर्व सुलभ और अति लोकप्रिय है।

#नीति सिंह प्रेरणा
प्रयागराज(उत्तर प्रदेश)

1 0

matruadmin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

जल बना जंजाल, फैला सियासी जाल।

Thu Oct 10 , 2019
वाह रे सियासत तेरे रूप हजार। सत्ता का लोभ एवं कुर्सी की चेष्टा किस स्तर तक जा सकती है इसकी कल्पना भी नहीं की जा सकती, सियासत की ऐसी उठा-पठक की जिसको देखने के बाद देश की जनता सोचने पर विवश एवं मजबूर हो रही है कि क्या ऐसा भी […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।