कविताओं की श्रद्धांजलि

0 0
Read Time2 Minute, 40 Second

rashmi abhay

अच्छी तरह याद है
इतवार था उस दिन…
कबाड़ी वाले की आवाज
गली में गूंज रही थी
घर के कबाड़ के साथ
बिक गई थीं कुछ अमूल्य निधि भी
बस १२ के भाव में…
कब सोचा था कि एक रद्दी बेचने वाला
ले जाएगा मेरे जीवन के सारे एहसास
कुछ अनकहे,कुछ अनछुए…
हवा थम-सी गई थी…
और सन्नाटे शोर कर रहे थे…
डाइरी के पन्ने पंखों की हवा से
फड़फड़ा कर अपने होने
का एहसास दिला रहे थे…
कोरे पन्ने जो स्याही से रंगकर
फिर कबाड़ी में चले जाएंगे…
कहीं कुछ नहीं था….
बस एक गर्द-सी जमी थी,
दिल के आस पास…।

दिन गुज़र गए…एक शाम
मूँगफली वाले को डोंगा बनाते हुए सुना
मैडम जी क्या शेर है…
‘मुट्ठी भर धूप तुम्हारे दामन में बिखेर दूँ….
और सोख लूँ तुम्हारी आँखों की नमी को…।’
ये शायर लोग भी अजीब होते हैं मैडम जी,
अपने भेजे में तो कुछ भी नहीं घुसता…
अपुन को क्या करना…वैसे मैडम जी
आप तो काफी पढ़ी लिखी हैं….
ये शायर क्या कहना चाहता है??
शब्द खो गए थे मेरे…
और खामोशी लिए दो बूंद आँसू
उस कागज़ पर टपक पड़े…
ये थी मेरी कविताओं की श्रद्धांजलि।

            #रश्मि अभय

परिचय : रश्मि अभय का पैतृक स्थान महाराजगंज(सीवान,बिहार) है।आपकी शिक्षा बीए,एलएलबी सहित बैचलर इन मास कम्युनिकेशन एंड जर्नलिज़्म है। संप्रति स्वतंत्र पत्रकार और लेखन की है। एक राजनीतिक पत्रिका की ब्यूरो चीफ हैं। समृद्धशाली उच्च मध्यमवर्गीय परिवार में जन्मी ‘रश्मि’ को लिखने-पढ़ने का शौक बचपन से ही रहा,मगर इसे कार्यरूप में इन्होंने करीबन 10 साल पहले शुरू किया। प्रकाशित पुस्तकें-सूरज के छिपने तक,मेरी अनुभूति,उमाशंकर प्रसाद स्मृति ग्रंथ शब्द कलश'(साझा संग्रह,सहोदरी कथा सोपान (साझा संग्रह)एवं सौ कदम
(साझा संग्रह)आदि आपके लेखन के गवाह हैं। कुछ पुस्तकें भी आने वाली हैं। आप लेखन में ब्लॉग पर भी सक्रिय हैं और पटना(बिहार)में रहती हैं।

matruadmin

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

सिमटती हिन्दी

Fri Apr 14 , 2017
वर्तमान परिदृश्य में देखें तो भारत के सबसे अधिक लोगों के बीच अभिव्यक्ति का,विचार प्रेषित करने का माध्यम हिन्दी भाषा ही है,पर वह सिमटती जा रही है। उसका क्षेत्र कम हो रहा है। आजादी के वक्त जहाँ हिन्दी सम्पूर्ण उत्तर भारत में लोकप्रिय थी और संविधान निर्माताओं ने लक्ष्य रखा […]

पसंदीदा साहित्य

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।