किताब का नाम -गाफ़िल लेखक – सुनील चतुर्वेदी प्रकाशक -अंतिका प्रकाशन मूल्य – 140 रु हम सब गाफ़िल हैं। यही सच है खोए हुए हैं न जाने कहाँ ।यह अहसास सौ गुना बढ़ गया जब सुनील चतुर्वेदी जी का उपन्यास पढा गाफ़िल । नायक अपनी अर्द्ध चेतना में है बीते […]

” गुलदस्ता फूलों का बंधन है तो भाषा भावों   का” किंतु पत्रकारिता पत्र-पत्रिकाओं के लिए समाचार लेख आदि एकत्रित तथा संपादित करने प्रकाशन आदेश आदि देने का कार्य करने हेतु है, डॉ बद्रीनाथ कपूर तो पत्रकारिता का इतिहास यही कहता है की पत्रकारिता का प्रारंभ सरकारी नीतियों को आम जनता […]

भाग्य जिसे दुर्भाग्य बन पग पग पर छलता रहा वो सूर्यपुत्र हो अंधकार से जीवन भर लड़ता रहा जन्मा सूरज के औरस से त्यागा लोक लाज के भय से कुरुवंश का ज्येष्ठ पुत्र सिंहासन का यथार्थ अधिकारी रहा उपेक्षित जीवन भर थी विडम्बना उस पर भारी सूतपुत्र होना उसको जीवन […]

साज़िशें बनती रही मुझको मिटाने की, मैं इनायतें समझती रही ज़माने की, रखती हूं हौंसला आसमान  को छूने का, परवाह नहीं करती ज़मीन पर गिर जाने की, तज़ुर्बे से गिन लेती हूँ उड़ती चिड़िया के पर, आदत नहीं मुझे हवा में तीर चलाने की, उठती रही मैं  हरबार ज़िंदादिली के […]

अम्बर पर यूँ छाई लाली, शीत ने ज्यूँ मेहंदी रचा ली, धुंध की चूनर हुई पुरानी, ओढ़ चुनरिया धूप की धानी, तुहिन कणों के धर आभूषण, शीत यौवना बन गई दुल्हन, फूलों के कँगना खनकाती, किरणों की पायल छनकाती, मदमस्त हुई इठलाती गाती, जल-दर्पण को देख लजाती, पीत हरित,नील कुसुमल, […]

कोई भी प्रण कोई प्रतिज्ञा इस युग में मैं नहीं करुँगी अखिल विश्व का भार वहन कर वसुंधरा मैं नहीं बनूँगी… ऋषि पत्नी का शापित जीवन शिला बनी जो भटकी वन वन राम चरण रज प्रतीक्षारत अहिल्या बनकर नहीं रहूँगी कोई भी प्रण…. पांच पांडवों की भार्या बन पांचाली सा […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।