Advertisements

rupesh jain

पूछिए मत क्या बवाल मचा रखा है

जाने उसने ज़बाँ पे क्या छुपा रखा है

इस माहौल में ख़ामोश रहना अच्छा

बहस को जाने क्या मुद्दआ उठा रखा है

तमाम उम्र जिस मुल्क से प्यार किया

फ़िक्र है मुझे अजनबियों ने डरा रखा है

आसार नहीं कोई दिखता सुधरने का

इन हालातों की चिंता ने सता रखा है

नहीं पता किस मोड़ पे नज़ारे अच्छे हों

हम ने देखा चोरों ने पेट भर खा रखा है

कहाँ तक पहुँचे निगाह होश भी न रहा

हम चुप और मुद्दई ने घर सजा रखा है

कब तक रहेगा ये मौसम इस सफ़र में

राहत’ वतन-परस्तों ने देश बचा रखा है

#डॉ. रूपेश जैन ‘राहत’

(Visited 9 times, 1 visits today)
Please follow and like us:
0
http://matrubhashaa.com/wp-content/uploads/2018/06/rupesh-jain.pnghttp://matrubhashaa.com/wp-content/uploads/2018/06/rupesh-jain-150x150.pngmatruadminUncategorizedकाव्यभाषाjain,rahat,rupeshपूछिए मत क्या बवाल मचा रखा है जाने उसने ज़बाँ पे क्या छुपा रखा है इस माहौल में ख़ामोश रहना अच्छा बहस को जाने क्या मुद्दआ उठा रखा है तमाम उम्र जिस मुल्क से प्यार किया फ़िक्र है मुझे अजनबियों ने डरा रखा है आसार नहीं कोई दिखता सुधरने का इन हालातों की चिंता ने सता...Vaicharik mahakumbh
Custom Text