बचपन

2
Read Time1Second

arun jain

खोया हुआ अपना,
बचपन ढूंढता हूँ..
पचपन की बातें,
नहीं लगती सयानी।

अभिमानों में अकड़ी,
जकड़ी जिंदगानी..
बंधनों में बंधी,
रेत होती कहानी।

वो चाँदी की थाली,
मिटटी के ढेले..
ईमली के चिएं,
नीम की निम्बोली।

कागज के रॉकेट,
पर ऊँची उड़ानें..
पतंगों के जोते,
हवाओं की चालें।

बस्ते का बोझा,
मीलो ही ढोना..
लड़ना झगड़ना,
जी भरके रोना।

कबड्डी,वो लंगड़ी,
घुटनों का छिलना..
नदी-पहाड़ों के,
संग साथ चलना।

छुपा-छाई में छुपना,
पकडंपाटी पकड़ना..
सुबहों की कट्टी,
शामों की बुच्ची।

कभी रेत में,
घरोंदे बनाना..
मिट्टी के घोड़े,
बारातें सजाना।

कभी ख्वाब में,
भूतों से मिलना..
परियो की दास्ता,
हँसना हंसाना।

स्याही दवात से,
कॉपी चितरना..
पेन्सिल से लिखना,
रबड़ खूब घिसना।

कॉमिक पढ़ना,
वेताल समझना..
चाचा चौधरी के,
साबू से मिलना।

पीपल के पत्ते,
पिंगानि बनाना..
आम के पत्तो से,
झालर सजाना।

रोटा पानी के,
बहुत खेल खेलै..
गुड्डे-गुड्डों की शादी,
मंडप सजाना।

खेल-खेल में नए,
रोज पाठ पढ़ना..
असल जिंदगी के,
सही माने समझना।

बचपन से अब तक,
जिए जिंदगी के हिस्से..
जर्रे-जर्रे भरे हैं किस्से,
खोया बचपन ढूंढता हूँ।!

      #अरुण कुमार जैन

परिचय: सरकारी अधिकारी भी अच्छे रचनाकार होते हैं,यह बात
अरुण कुमार जैन के लिए सही है।इंदौर में केन्द्रीय उत्पाद शुल्क विभाग में लम्बे समय से कार्यरत श्री जैन कई कवि सम्मेलन में काव्य पाठ कर चुके हैं। उच्च शिक्षा प्राप्त सहायक आयुक्त श्री जैन का निवास इंदौर में ही है।

0 0

matruadmin

2 thoughts on “बचपन

  1. बचपन तैर गया आंखों के आगे!!!! अद्भुत रसपूर्ण रचना !!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

होली

Tue Mar 14 , 2017
भूलकर सारे गिले-शिकवे अपनों के, एक-दूसरे को हम रंग लगाएंगे। जिंदगी में भर दे खुशियाँ जो फिर से, इस बार होली ऐसी मनाएंगे। जो भी होगा रुठा मुझसे अभी तक, जाकर घर स्वयं उसके हम मनाएंगे। एकसाथ मिलेंगे हम सब फिर से, बचपन वाली वो होली फिर से मनाएंगे। बेरंग-सी […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।