बच्चों की आवश्यकताएँ  सर्वव्यापी है , जहाँ उन्हें ज्ञान देने की आवश्यकता है , वही उन्हें सम्मान देने की भी आवश्यकता हैं| उन्हें संस्कारी बनाना है तो उसे सुविचारी भी  बनाना है , उन्हें परम्परा और परिपाटी से परिचित   कराना है तो स्वयं करने और सीखने के मौके को  भी  […]

1

तारों की बरात लेकर आ गए चन्दा मामा। दूल्हा बनकर दुनिया में छा गए चन्दा मामा॥ चन्दा मामा निकल पड़े हैं मामी की तलाश में। दर-दर भटक रहे हैं देखो बादल संग आकाश में॥ प्यारे-प्यारे सारे तारे भूल गए हैं रास्ता। भटक गए हैं,लटक गए हैं कैसे करेंगे नाश्ता॥ निशा-रानी […]

बच्चों मानव अंगों में छिपे हैं, ज्यामितीय आकृति के राज। कान लगे जैसै  हो अर्धवृत्त, बिंदु जैसी बनी प्यारी आंख॥ त्रिभुज  जैसी  बनी है  नाक, वक्र  रेखा-सी  लगे पलक। वृत्त जैसा लगे हमारा चेहरा, शंकु जैसे लगे सिर के बाल॥ रेखाखंड  जैसे  लगे  पैर, समानांतर चतुर्भुज हाथ। आयत-सी  बनी काया, […]

मेरे पापा कितने अच्छे, मेरे संग बन जाते बच्चे, मुझे अपनी पीठ बिठाते, सारे घर की सैर कराते, मेरी बातें ध्यान से सुनते, हरदम रहते मुझे निखारते पर,मेरे पापा हैं बड़े भोले, कभी नहीं मुझे डांट के बोले, कोई उनको कितना टटोले, मेरी गलती पर मुंह नहीं खोले, मुझको जैसे […]

कुछ आशाओं,कुछ सपनों को संजोते ये खिलखिलाते बच्चे, कभी जानी-पहचानी तो कभी अनजानी राहों पर उन्मुक्त हो, दौड़ते ये खिलखिलाते बच्चे। न ईर्ष्या,न द्वेष इन्हें किसी से, प्यार से दिल जीतते ये खिलखिलाते बच्चे। पर न जाने किस बोझ तले अंधेरी गलियों में गुम होते, चमचमाते खिलौनों से खेलते,अपने प्यारे […]

नटखट बंदर चला बजार, मम्मी से लेकर रुपए चार। मिठाई देख मन ललचाया, झटपट करने लगा सड़क पार॥ लाल रोशनी थी देख न पाया, टक्कर मार गई एक कार। गिरा बीच सड़क पर धड़ाम, करने लगा हाय राम…राम॥ बच्चों तुम भी रहो होशियार, जब भी करो सड़क को पार। दाएं-बाएं […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।