उन्मुक्त मन

4
Read Time2Seconds

pritee

मन भटकता है,तो भटकने दो,
उन्मुक्त गगन में,पंछी-सा विचरने दो।

न लगाओ पहरे,इस सिरफिरे दीवाने पर,
जो चाहे,जैसा चाहे उसे करने दो।

मस्त मौला है ये,कब किसी की सुनता है,
हर वक्त हर लम्हा मौज में ही जीता है।

फूलों-फूलों,डाली-डाली इसे भँवरे-सा भ्रमरने दो,
जो चाहे,जैसा चाहे उसे करने दो।

सूरज की रक्तिम किरणों-सा,सर्वत्र इसे बिखरने दो,
चन्द्रमा की चांदनी-सा,शीतल मन्दाकिनी-सा अम्बर में चमकने दो।

न रोको,इस परवाने को,चंचल चपल चितचोर को चहुँओर तुम चहकने दो,
जो चाहे,जैसा चाहे उसे करने दो।

                                                                              #प्रीती दुबे

परिचय : मध्य प्रदेश में ही निवासरत प्रीति दुबे प्रधानमंत्री सड़क योजना छिंदवाड़ा में उपयंत्री के पद पर कार्यरत हैं।आपने कुछ समय पहले ही शौकिया तौर पर लिखना शुरू किया है। आपकी रचनाओं का खास तत्व स्त्री और प्रेम है।

0 0

matruadmin

4 thoughts on “उन्मुक्त मन

  1. I see your website needs some fresh content. Writing manually
    is time consuming, but there is solution for this hard task.

    Just search for – Miftolo’s tools rewriter

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

औरत होने के लिए...

Fri Mar 10 , 2017
औरत होने के लिए… कितने पशेमान कपड़े पहने हैं उस आसमानी लड़की ने। जो फुदक रही है आसमान की छाती पे, झूम रही है मेहताब के सूफ़ी गीतों से.. खेल रही है आकाशगंगा के अनगिनत खिलौनों से। एक दिन जिसे जमीं की कूचा आके, बनना है कल की संघर्षशील औरत.. […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।