ग़ज़ल

Read Time0Seconds

 

rajiv kumar das

ताउम्र के लिए सितम मेहमान हुआ मेरा

खाली ज़मीन खाली आसमान हुआ मेरा

कुछ आरज़ू नहीं है और जग के मालिक

सब जग से छूटा मगर भगवान हुआ मेरा

ग़म नही शहंशाह के बाशिंदों की दूरी से

जिसका सब कुछ सारा जहान हुआ मेरा

उसकी अदा में अब तक राख हो गया मैं

बखश देने वाला तो नूर-ए-शान हुआ मेरा

उतारता चला हूँ मुस्कान सबके चेहरे पर

बोए फ़सल का अच्छा लगान हुआ मेरा

बाँट दो दुनिया को नहीं चाहिए अब कुछ

ज़माने से खुबसूरत हिन्दुस्तान हुआ मेरा

कभी नहीं जिया किसी का खार बन कर

ऐसे नहीं ख़ुशबू से भरा बगान हुआ मेरा

ना देख सकी तकलीफ़ों उनकी मेरी आँखें

एक चुभन से दिल बहुत परेशान हुआ मेरा

बेकाम का जिस्म और जाँ वतन को छोड़

हँसते हुए सब सरहद पर क़ुर्बान हुआ मेरा

नाम:राजीव कुमार दास

पता: हज़ारीबाग़ (झारखंड) 

सम्मान:डा.अंबेडकर फ़ेलोशिप राष्ट्रीय सम्मान २०१६

गौतम बुद्धा फ़ेलोशिप राष्ट्रीय सम्मान २०१७

पी.वी.एस.एंटरप्राइज सर्वश्रेष्ठ रचनाकार सम्मान १४/१२/२०१७

शीर्षक साहित्य परिषद:दैनिक श्रेष्ठ रचनाकार सम्मान १५/१२/२०१७

काव्योदय:सर्वश्रेष्ठ रचनाकार सम्मान:०१/०१/२०१८,०२/०१/२०१८,०३/०१/२०१८३०/०१/२०१८,०८/०५/२०१८

आग़ाज़:सर्वश्रेष्ठ रचनाकार सम्मान:२५/०१/२०१८

एशियाई साहित्यिक सोसाइटी सम्मान:१७/०३/२०१८,१६/०४/२०१८,१६/०५/१८

श्री राधेकृष्ण पब्लिकेशन:चित्रपाठी अलंकरण सम्मान:२३/०४/२०१८

उड़ान:सर्वश्रेष्ठ रचनाकार सम्मान:११/०७/२०१८

प्रकाशन:

शब्द अभिव्यक्ति:’नई उड़ान’:वाल्यूम ०१,०२,०३में कविताएँ व अन्य रचनाएँ प्रकाशित।

नये पल्लव:०४ में तीन कविताएँ

काव्यसागर डाट काम:०९ ग़ज़ल

काव्यसागर डाट काम(यू ट्यूब):तीन कविताएँ

आकाशवाणी हज़ारीबाग़ झारखंड:०४ कविताएँ

0 0

matruadmin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

 कयामत

Mon Jul 16 , 2018
अखबार टीवी के लिए तो बस एक खबर होती है पूछो उसके दिल से हाल उसका जिस पर यह कयामत गुजर होती है । मीडिया को मिल जाता है एक ज्वलंत बहस का मुद्दा टीआरपी की खातिर केवल बहस नज़र होती है । हैवान घूमते पहने शराफत का नकाब इज्जत […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।