.. विचारों, वक्तव्यों, घोषणाओं तथा नियमों से हम स्वयं को हिंदी के जितने करीब महसूस करते हैं,उतना हम हैं नहीं। वास्तव में हम उससे दूर होते जा रहे हैं। वरना आज हिंदी या राजभाषा के विमर्श के लिए यूं सैकड़ों आयोजन करने की आवश्यकता ही नहीं पड़ती । कभी अंग्रेजी […]

महावर लगाओ मिलन ऋतु आ रही मेहंदी रचाओ, मिलन ऋतु आ रही। चूड़ियां,कंगन चंद्रहार लाओ, सिर बोर सजाओ, मिन ऋतु आ रही। पावं बोलेंगे तब रुनझुन – रुनझुन, पायल पहनाओ , मिलन ऋतु आ रही। सुवासित सुमन वेणी संग गुथाओ, लट को सुलझाओ, मिलन ऋतु आ रही। सास ननंदिया संदेसा […]

विकास आज बेहद खुश था, क्योंकि उसके गमले में आज हरी हरी  और नन्हीं नंन्ही पत्तियां आ चुकी थीं। .. दस साल के विकास.ने आठ दस दिन पहले ही कटी हुई सब्जी के कचरे में से कुछ बीज अलग करके छोटे से गमले मे ं डाल दिये थे। गमले में […]

जानती हूं मैं नारी हूं, आदेश था बस सुन सकती। बरसों से यूं सुनती रही, अब बहुत कुछ कह सकती। चूंकि आज सतयुग है नहीं, मैं सीता नहीं बन सकती। चूंकि आज द्वापर भी नहीं, मैं राधा नहीं बन सकती। कल्पना चावला रूप धर, भेद अंतरिक्ष जा सकती। फाइटर-पायलेट बनकर, […]

1

     रमनसिंह सब्जियां लेकर मुड़ा ही था कि उसने अनायास सामने पड़ गए मिश्र जी से दो-तीन सवाल एक साथ कर डाले-‘कैसे हैं सर ?,प्रैक्टिस  कैसी चल रही है ?,आप यहां कैसे?’ – ‘एकदम ठीक’, मिश्र जी ने पहले सवाल का जवाब देना ही काफ़ी समझा।    ज्ञानसिंह मिश्र […]

न सोना न चांदी,न हीरे जवाहारात, मां के आगे किसी की क्या बिसात। जिगर में छुपाए शबनमी माहताब, शाख़ों को देती मंजिलें आफताब। देखा है मां को पल-पल बड़ा होते, बचपन से अपने दायित्व निभाते। आज बिस्तर पे लेटे-लेटे ताक रही, जिंदगी का फ़लसफ़ा सिखा रही। आंखों से शबनम गुमशुदा […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।