चार दिनों की चांदनी मिली है अपनों से क्यों व्यर्थ्य गमाये जा रहा इस ख़ुशी के पल को / वैसे तो कौन किसका होता है इस ज़माने में सब को अपनी अपनी पड़ी है दौलत कमाने में / जब से मिला है तुझे मौका पैसे कमाने का / तो कमाए […]

बाधायें आती हैं आयें चाहे जितना प्रलय मचायें दुख के दावानल से चाहें गूँज उठे चहु ओर दिशाएँ पथ की इन बाधाओं से हमको हरदम लड़ना होगा, सूरज जैसा जलना होगा। जीवन की कंटक राहों में बिखरे जाने कितने शूल, आगे बढ़ने की अभिलाषा में मत जाना मानवता भूल, टेढ़ी-मेढ़ी […]

मेधा जब भी मुखरित होगी निजता का सन्दर्भ हटेगा, चेतन जब भी जागृत होगा अंतर्मन का क्लेश घटेगा, सुरभित होगा मन का स्वर मन से जन के मीत बनेंगें आशाओं के दीप जलेंगे। मन का कलुष भगायें यदि हम क्षमाशीलता   तब       जागेगी, सहिष्णुता की अलख जगेगी […]

ये कैसी रंजिशें हैं? ये कैसी ख्वाहिशें है? जिधर दृष्टि डालो उधर ही तो साज़िशें हैं। इन अजब बन्दिशों का क्रंदन है जीवन, अंधेरे-उजाले का संगम है जीवन।। यहाँ तो हर शख़्स ग़मज़दा सा है, कुछ हारा और कुछ थका-थका सा है। इस हार और जीत के फ़लसफ़े में बस, […]

विचार,वाणी की स्वतन्त्रता देती हमें सम्मान हो, वेशभूषा की सरलता का हमें अभिमान हो, देश,भाषा,धर्म का न कभी अपमान हो। इस निलय में हर कहीं, बस राष्ट्र का गुणगान हो, जो राष्ट्र हित में लिखा जाए,ऐसा अनूठा गान हो। सच्चा वासी वही देश का जो उस पर कुर्बान हो, ऐसे […]

पल्लल्वित हो,प्रगतिशील हो ऐसा रोपित बीज हो, बहुजन हिताय,बहुजन सुखाय ऐसी अपनी नीति हो, न धर्म हो न जाति हो न भाषावादी रीति हो, हो बसन्त चहुओर न ज्यादा गर्म हो न शीत हो, हिन्दू मुस्लिम सिख पारसी आपस में सब मीत हो, औंधे मुँह गिरे हरदम जो छल प्रपंची […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।