हमारे देश में गणित को हम हमेशा कठिन विषय मानते हैं पर यह बात गलत है। गणित से सरल कोई विषय नहीं है। छोटी क्लास के बच्चों को पहाड़े कठिन पड़ते हैं। पर उनको सरल बनाया जा सकता है। गणित के ही शब्द में उसका अर्थ छुपा है, यह कहना […]

चल अकेला चल अकेला मत निराशा साथ ले। बढ़ अकेला बढ़ अकेला मत निराशा साथ ले।। स्वप्न सी ही जिंदगी है जी ले हर पल मस्ती से। क्या पता कल हो या न हो प्यार भरी इस बस्ती में।। रिश्ते नाते की दीवारें तोड़ ले मन जोड़ ले बढ़ अकेला……….. […]

जब कभी भी उठने की कोशिश की तब तब गिराने बालों ने बहुत मन्नते की। कि काश, यह कभी न उठे। पर उठने की, जो मन में ठाने थे। बे उठे बहुत उठे इतने ऊँचे उठे कि गिराने वालो की सारी कोशिसे नाकामयाब हो गयी।। वे बढे बहुत आंगे बढे […]

भुला सको तो भुला ही देना उन बेबुनियादी बातों को। मिटा सको तो मिटा ही देना उन आध-अधूरी यादों को। गर समझ सको मेरे इस मन को तो मन में बसाकर रखे रहो। नही हौसला हो रखने का तो दूर नही अति दूर रहो।। मिट्टी का तेरा तन भी है […]

जाडे का निशीथ समय कडाके की ठंड घना कुहासा पंछी भी घोसले से बाहर नहीं निकल रहे थे। ठिठूरती जा रही थी हाड-माँस-पेशियां, शाम का जलाया हुआ अलाव राख हो चुका था। ओढ के काली कम्बल नभ में छुप गयें थें सारे तारे चाँदनी भी आज धरती से बात करने […]

अपने दुःखों को हमेशा, मुझसे छुपाती है मेरी माँ। मेरे लिए अनेक, कष्ट उठाती है मेरी माँ। मेरी नादान हरकतों पर, पड़ोसी बार-बार उलाहने देते, करके मेरी ही वकालत, मेरी हर बात दबाती है मेरी माँ। कहीं मेरी आदत न बिगड़ जाए, इसलिए कभी डाँटकर। कभी प्यार से, मुझे बार-बार […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।