नारी तुम  शक्ति  हो, हर दुख को अपने में समाही हो। मान हो,अभिमान हो तुम  देश की शान हो। छूकर आसमाँ करती, सबके मन को बलवान हो। प्रकाश पुंज बन देती सबको पहचान हो।तारों का ताज सजे, ऐसी तुम महिमावान हो। टूटे मन को सहलाती, उम्मीद का तुम चांद हो।  देश की धड़कन का […]

रंगोली देखो सजी,घर आंगन अरु द्वार।शांति दीप पावन भरे,हो मंगल परिवार।। रंग बिरंगी नेक सम,लाती अलग निखार।दिल से तोड़ो नीर अब,आओ सदा बहार।। चौक दीप पूजन समय,रंगोली की याद।आकर्षित करती सदा,करती पूर्ण मुराद।। रंगोली सम बाँटिए,रहे एकता प्यार।सम्पूर्ण हो कामना,यही नीर आधार।। मंगलकारी का बने,नीर प्रेरणाधार।रहें एकता साथिया,रंगोली अधिकार।। #नवीन […]

जनस्वर पत्रिका के प्रबंध सम्पादक नवीन कुमार भट्ट नीर ने बताया है कि साहित्य संगम संस्थान के महासचिव आद० कविराज तरुण सक्षम जी के द्वारा जनस्वर पत्रिका का आज मंगलवार 20/08/2019 को विमोचन किया गया । लोकतंत्र की प्रचंड जीत पर आधारित यह अंक लोकतंत्र के मानकों पर व हिंदी […]

साहित्य संगम संस्थान दिल्ली की ई पत्रिका *मन की बात* नशा निषेध विशेषांक का दूसरे अंक का विमोचन 29 जून को साहित्य संगम संस्थान के मुख्य पटल पर  आदरणीय नवल किशोर जी द्वारा भक्ति काल में किया गया।  यह पत्रिका किसी भी प्रकार के नशे से दूर रहने का संदेश […]

हमारी हिन्दी करती शिकायत ममता भरी।१ हिन्दी महान करिये गुणगान बन ताकत।२ वीरता बन हमारी पहचान बनाती हिंदी।३ हिंदी दिवस मनाते धूमधाम जानें कारण।४ हर तरफ देते शुभकामना वंदन हिंदी।५ हिंदी विवस जाँचती परखती अपना मान।६ हिन्दी हिन्दुत्व परिभाषा उतरी परीक्षा रण।७ #नवीन कुमार भट्ट परिचय : पूरा नाम-नवीन कुमारभट्ट […]

प्राप्त जानकारी के अनुसार पं रामजस त्रिपाठी, नारायण*अधीक्षक*दोहाशाला साहित्य संगम संस्थान ने बताये कि दोहाशाला साहित्य संगम संस्थान दिल्ली द्वारा दिनांक 17/05/2019 नरसिंह भगवान के अवतार दिवस के उपलक्ष्य में  पटल पर सायं ८-९ बजे तक दोहा अंताक्षरी प्रतियोगिता आयोजित की गई।जिसमे एक शब्द विषय पर 6 मिनट का समय […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।