स्त्री

0 0
Read Time3 Minute, 42 Second

ajay r mishr

एक पहेली स्त्री…,

जलाया स्वयं को जिसने
जग उज्जवल किया

चन्द्रकलां की भाँति

वही तो है
उस दीपक की बाती l

सैंतकर स्वयं में
जिसने तुम्हें तुमको दिया l

वही तो है,
कोख

भीतर जिसके तुमने
वस्त्रहीन कुछ पल जिया l

चंद्रप्रभा से निर्मित,
जिसके आंचल शीतल

वही तो है,
दिवास्वप्न

जिसकी छांव में तुमने भी
सोया किया l

तपकर आजीवन जिसने,

अग्नि को पिया

वही तो है,
सुरभि

जिसने तुम्हें सुरभित किया

प्यासी हुई स्वयं प्यास है जिसने,
मर्यादा का मान कियाl

हाँ, वही तो है,

स्त्री जाति
जो तुम्हें नहीं भाती l

जिसे तुमने कुछ नहीं दिया,
कुछ भी तो नहीं दिया।

दीए का रास…

जाग रहा
नहीं पता किससे,
या कि स्वयं से
भाग रहा
हां,पर जाग रहा l

देख रहा,
बात को,
उड़ रही जो रोज
काली स्याह रात को,
रेख रहा
देख रहा l

पता नहीं क्यों,
शायद उदास हूँ
या कि बन गया
दीए का रास हूँ…

अब कहां किसी के लिए खास हूँ l

मैं हूँ काला,
शायद यह भी सही
पर उजाला,
शायद है,या कि नहीं l

फिर भी जीवन माँग रहा,
हां मैं जाग रहा।

स्त्री की दृष्टि…,

वाह रे वाह तुम्हारी दृष्टि l

वासना से ओत-प्रोत,
जैसे गली-सड़ी कोई पट्टी

जिसे छुए बस जाय वह

गला दे सड़ा दे,
दीठ की अम्लीय वृष्टि..

वाह रे वाह तुम्हारी दृष्टि l

बढ़ जाए गति कुपोषण की,
चाहे भस्म हो जाएं किसान कई

गरीबों के उजड़ जाए,
घर-सृष्टि
यही तो है तुम्हारी संतुष्टि,

वाह रे वाह तुम्हारी दृष्टि l

ले क्यों नहीं लेते उधार तुम,
किसी स्त्री से ‘दृष्टि’l

होती है जिनमें ममता,
संवेदनाओं का अगाध सागर बहता है
दुख देखने का साहस,
आशा की किरण त्याग का आँसू रहता है l

राधा,मीरा,मदर टेरेसा,मलाला,
सब दृष्टि ही तो हैं
स्त्री की दृष्टि स्वयं में,
स्त्री ही तो है l

तुम भी हो जाओ एक स्त्री!

बदल लो अपनी दृष्टि,

हाँ,बदल लो अपनी दृष्टि l

तरक्की…..

एक गाँव,
जहाँ थी मिला करती
नरम मुलायम मिट्टी l

बने मकान जिससे हुआ करते
चिकने चुपड़े सौंध-सुगंधित,

रहा करते जिसमें
मिट्टी के इंसान, आंनदित,

शहर हो गया-

हो गए मकान सारे पत्थर के,

और इंसान पत्थर दिल अमर्यादित।

  #अजय आर. मिश्र ‘धुनी’

परिचय : अजय आर. मिश्र ‘धुनी’ झारखण्ड राज्य के धनबाद से हैं l जन्मतिथि- ७ सितम्बर १९८४ और जन्मस्थान धनबाद ही है l इंटर तक आपने पढ़ाई की है और पुजारी का कार्य करते हैं l सामाजिक क्षेत्र में आप संस्कार भारती साहित्य से जिला स्तर पर जुड़े हुए हैं l कविता रचना आपकी रूचि और विधा है l आप लेखन को जीविका का उद्देश्य बनाने के लिए अग्रसर हैं l

matruadmin

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

धागा

Mon Aug 21 , 2017
छोटा-सा ये निर्बल धागा,  न जाने कितने रिश्तों को बचाता है। कभी ले रूप राखी का, भाई को उनके कर्तव्य की याद दिलाता हैl कभी ले रूप मंगलसूत्र का, पति-पत्नी के पवित्र बंधन को दर्शाता है। छोटा-सा ये निर्बल धागा…ll कभी बनकर दोस्त ये, दोस्ती का वचन निभाता है। कभी यज्ञ […]

पसंदीदा साहित्य

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।