यूथ वर्ल्ड एंड सोशल मंच बीकानेर ने पुरोहित को एक्सीलेंसी अवार्ड से किया सम्मानित

0 0
Read Time2 Minute, 14 Second

देव भाषा संस्कृत को बढ़ावा देना रचनाकारों का प्रमुख दायित्व है-डॉ. राजेश पुरोहित

भवानीमंडी: देश के सुप्रसिद्ध कवि एवम साहित्यकार डॉ. राजेश कुमार शर्मा पुरोहित को यूथ वर्ल्ड न्यूज एंड सोशल मंच बीकानेर द्वारा रविवार को वर्चुअल कार्यक्रम के दौरान एक्सीलेंसी अवार्ड 2021 से सम्मानित किया।

 डॉ. पुरोहित ने बताया कि यूथ वर्ल्ड सोशल मंच द्वारा आयोजित यूथ वर्ल्ड एक्सीलेंसी अवॉर्ड 2021 के वर्चुअल आयोजन की मुख्य अतिथि बीकानेर महापौर श्रीमती सुशीला कंवर राजपुरोहित थी वही समारोह की अध्यक्षता शिक्षाविद और समाज सेवी डॉ सुरेन्द्र गोयल सिरसा ने की तो विसिष्ठ अतिथि के रूप में फ़िल्म स्टार कुणाल सिंह राजपूत मुम्बई ,समाज सेविका श्रीमती शर्मिला राजपुरोहित मुम्बई , वरिष्ठ कवि सुख सिंह आऊवा , डॉ दिनेश सिंह बिलाड़ा रहे।

पुरोहित को यह सम्मान शिक्षा एवम साहित्य के क्षेत्र में उलेखनीय कार्यों के लिए प्रदान किया गया।
वर्चुअल यूथ वर्ल्ड सोशल मंच में 51 प्रतिभाओ ने अपना परिचय और अपने विचार सबके साथ सांझा किये । जिसमें डॉ. राजेश कुमार शर्मा पुरोहित ने कहा की संस्कृत हमारी देव भाषा है । हम सबको इसका मांन और गौरव बढ़ाना चाहिए। विद्यालयी पाठ्यक्रम में गीता के श्लोकों को शामिल करने की भी बात कही। सभी रचनाकारों का दायित्व है कि हम संस्कृत को आगे बढ़ाने का कार्य करें।

matruadmin

Next Post

हिंदी विश्वविद्यालय की संगोष्ठी में शामिल हुए 12 कुलपति

Tue Jun 29 , 2021
गुरु पूर्णिमा पर हल्दी घाटी से द्वारिका तक निकलेगी गीता संदेश यात्रा वर्धा, महात्मा गांधी अंतरराष्ट्रीय हिंदी विश्वविद्यालय, वर्धा की ओर से हल्दीघाटी युद्ध दिवस के उपलक्ष्य में 18 जून 2021 को ‘भगवद्गीता और महाराणा प्रताप : राष्ट्रीय सुरक्षा और मानवाधिकार के सन्दर्भ में’ विषय पर तरंगाधारित राष्ट्रीय संगोष्ठी दो […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।